क्यों रो पड़े जावेद अख़्तर ?

जावेद अख़्तर और फ़रहान अख़्तर
Image caption जावेद अख़्तर अपने बेटे फ़रहान अख़्तर के साथ.

गीतकार और कहानीकार जावेद अख़्तर बीते दिनों अपने आंसू नहीं रोक पाए. वो रो पड़े. और इसकी वजह थी उनके बेटे फ़रहान अख़्तर की फिल्म 'भाग मिल्खा भाग'. बीबीसी से ख़ास बात करते हुए ख़ुद फ़रहान ने ये बात बताई.

(फ़रहान का मिशन 'मर्द')

वो कहते हैं, "फिल्म को देखकर पापा को शायद अपने संघर्ष के दिन याद आ गए. मिल्खा सिंह को जिस तरह की मुसीबतों का सामना करना पड़ा था और तमाम चुनौतियों को पछाड़ते हुए उन्हें जिस तरह से जीत हासिल की, उस जज़्बे ने, उनकी लड़ाई ने पापा की आंखों में आंसू ला दिए."

('नाच-गाना हमारी ताक़त')

Image caption सोनम कपूर, मिल्खा सिंह और फ़रहान अख़्तर.

फ़रहान अख़्तर ने बताया उनके पिता जावेद अख़्तर ने भी अपने करियर के शुरुआती दिनों में ख़ासा संघर्ष किया. उन्हें कई बार स्टूडियो में ही सोना पड़ता था. और तमाम विपरीत परिस्थितियों का उन्होंने जिस तरह से सामना किया, वही सब बातें उन्हें 'भाग मिल्खा भाग' को देखकर याद आईं.

सच्ची कहानी

'भाग मिल्खा भाग' मशहूर भारतीय एथलीट मिल्खा सिंह के जीवन पर आधारित है.

फ़रहान कहते हैं, "मिल्खा सिंह जी के बारे में हममें से ज़्यादातर लोगों को यही पता है कि उन्होंने एशियाई और कॉमनवेल्थ खेलों में स्वर्ण पदक जीता. ओलंपिक में पदक जीतने से वो बस थोड़ा सा चूक गए. लेकिन उनकी ज़िंदगी के कई पहलुओं के बारे में हमें कुछ नहीं पता. यही बात हम इस फिल्म में दिखा रहे हैं."

ट्रेनिंग

फ़रहान बताते हैं कि फिल्म के लिए उन्हें कई महीनों तक एथलीट की तरह ट्रेनिंग करनी पड़ी. नंगे पैर दौड़ लगानी पड़ी. और तब उन्हें महसूस हुआ कि मिल्खा सिंह कितने जीवट के इंसान हैं.

'भाग मिल्खा भाग' में सोनम कपूर भी अहम भूमिका निभा रही हैं.

इसके लेखक प्रसून जोशी हैं और इसके निर्देशक राकेश ओमप्रकाश मेहरा हैं. फिल्म 12 जुलाई को रिलीज़ हो रही है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार