कितना लंबा चलेगा शाहरुख़-सलमान का 'मिलन'

  • 22 जुलाई 2013
शाहरुख़ ख़ान, सलमान ख़ान

बॉलीवुड के चर्चित तीन ख़ान जब एक दूसरे से मिलते हैं तो चर्चा का विषय बन ही जाते हैं.

कुछ साल पहले आमिर ख़ान के भांजे इमरान ख़ान की शादी में शाहरुख़ ख़ान पहुंचे थे जिसकी काफी बात हुई थी और अब कथित तौर से एक दूसरे को फूटी आंख नहीं सुहाने वाले शाहरुख़-सलमान का एक दूसरे से गले लगना सुर्खियां बटोर रहा है.

पढ़िए मुंबई डायरी की आज की ख़बरें.

सलमान-शाहरुख़ का मिलन ?

5 सालो से दूरी बनाये रखने के बाद बॉलीवुड के सितारे सलमान ख़ान और शाहरुख़ ख़ान कल मुंबई के एक होटल मे आयोजित इफ्तार पार्टी में एक दुसरे से गले मिले.

एक राजनेता द्वारा आयोजित इस पार्टी पर सलमान ने पहल करते हुए शाहरुख़ खान से हाथ मिलाया और फिर दोनों गले भी मिले जिसके बाद पूरे हॉल में तालियों की गड़गड़ाहट सुनाई दी.

कथित तौर पर इन दोनों ही कलाकार के बीच करीब पांच साल पहले अभिनेत्री कटरीना कैफ के जन्मदिन पर काफी कहा सुनी हो गई थी जिसमें बाद से इनके बीच बातचीत बंद थी.

मीडिया और सोशल नेटवर्किंग की दुनिया में यह बात कल रात से काफी चर्चा में है.

देखना होगा कि क्या ये मुलाक़ात लंबी चलेगी या फिर महज़ एक औपचारिक भेंट बनकर रह जाएगी ?

गायक मुकेश का जन्मदिन

आज 22 जुलाई को हिंदी सिनेमा के प्रसिद्ध गायकों में से एक मुकेश का 90वां जन्मदिन है. राजकपूर की आवाज़ माने जाने वाले मुकेश ने हिंदी फिल्मों को कई यादगार गाने दिए हैं.

1959 में उन्हें ‘अनाड़ी’ के लिए पहली बार सर्वश्रेष्ठ गायक का फ़िल्म फ़ेयर पुरस्कार मिला और इसके बाद तीन और फ़िल्म फ़ेयर उन्हें मिले. 1974 में फ़िल्म रजनीगंधा के गीत 'कई बार यूं भी देखा है' के लिये उन्हें सर्वश्रेष्ठ गायक का राष्ट्रीय पुरस्कार मिला.

कैसे की मुकेश ने शुरुआत

टीवी पर 'बुनियाद' फिर से

अपने दौर का प्रसिद्ध धारावाहिक 'बुनियाद' एक बार फिर दूरदर्शन पर प्रसारित होने जा रहा है.

1947 के विभाजन की कहानी कहता ये सीरियल गुरुवार से टेलीविज़न पर नज़र आएगा. वैसे तो ये ड्रामा सीरिज़ पहले भी कई चैनल पर प्रसारित हो चुकी है लेकिन इस बार इसकी एक ख़ास बात रही.

इस धारावाहिक के निर्माता-निर्देशक रमेश सिप्पी ने पूरी टीम के लिए एक पार्टी का आयोजन किया ताकि इस सीरियल के पुराने दिनों को फिर से याद किया जाए.

सिप्पी कहते हैं "हमें उम्मीद है कि इस बार युवा दर्शक भी इसे पसंद करेंगे. विभाजन की बातें होती रहती हैं, यहां तक की शांति के दौरान भी. ये एक अच्छा तरीका है याद दिलाने का की उस वक्त लोग किस दौर से गुज़रे."

बुनियाद को रमेश सिप्पी और ज्योति सप्रू द्वारा निर्देशित किया गया था, वहीं मनोहर श्याम जोशी इस धारावाहिक के लेखक थे.

38 साल बाद फिर से 'शोले'

भारतीय सिनेमा की मशहूर फिल्मों में से एक 'शोले' को अब आप थ्रीडी में देख पाएंगे.

15 अगस्त को फिल्म 'शोले' अपने 38 साल पूरे करेगी और इस मौके पर इस फिल्म के थ्रीडी लुक को पहली बार दिखाया जाएगा.

फिल्म को थ्रीडी में बदलने में लगभग 16 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं जिसे एक नए रंग रूप और टेक्नोलॉजी के साथ संभवत: 20 सितम्बर को रिलीज़ किया जायेगा.

(बॉलीवुड और मनोरंजन जगत से जुड़ी दिलचस्प खबरों के लिए पढ़ते रहिए मुंबई डायरी.)

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

संबंधित समाचार