महिलाओं का 'ग्रैंड मस्ती' देखना हैरानी भरा था: विवेक ओबेरॉय

 'ग्रैंड मस्ती'
Image caption (एडल्ट कॉमेडी 'ग्रैंड मस्ती' ने 100 करोड़ का आंकड़ा छू लिया)

विवेक ओबेरॉ़य, आफ़ताब शिवदासानी और रितेश देशमुख की फ़िल्म 'ग्रैंड मस्ती' समीक्षकों की तमाम आलोचनाओं के बावजूद हिट तो हो गई लेकिन ख़ुद अभिनेता विवेक ओबेरॉय इसकी सफलता से हैरान हैं.

फ़िल्म व्यापार विशेषज्ञों के मुताबिक़ 'ग्रैंड मस्ती' ने बॉक्स ऑफ़िस पर 100 करोड़ की कमाई का आंकड़ा पार कर लिया है.

जबकि अभिनेता विवेक ओबेरॉय इस बात से चकित हैं कि ऐसी 'एडल्ट कॉमेडी' देखने के लिए महिलाएं बड़ी संख्या में कैसे थिएटर पहुंची.

मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा, "मुझे, आफ़ताब और रितेश में से किसी को यक़ीन नहीं था कि लोग ऐसी फ़िल्म को अपने परिवार के साथ बड़ी संख्या में देखने पहुंचेगे. फ़िल्म को महिलाओं और सीनियर सिटीज़ंस ने भी देखा जो काफ़ी हैरानी भरा था क्योंकि ये एक एडल्ट कॉमेडी है."

आलोचना

विवेक कहते हैं कि 'चेन्नई एक्सप्रेस' जैसी बड़ी फ़िल्म जो साढ़े तीन हज़ार से भी ज़्यादा स्क्रीन्स पर रिलीज़ हुई उसका पहले दिन बॉक्स ऑफ़िस पर ज़बर्दस्त शुरुआत करना समझ में आता है लेकिन 'ग्रैंड मस्ती' जैसी फ़िल्म जो उससे आधे स्क्रीन्स पर रिलीज़ हुई उसका ज़ोरदार शुरुआत पाना हमारी समझ से परे था.

इंद्र कुमार निर्देशित इस फ़िल्म की कथित तौर पर बेहूदे संवादों और द्विअर्थी चुटकुलों की वजह से ख़ासी आलोचना भी झेलनी पड़ी थी लेकिन कमाई के मामले में ये इस साल की बड़ी फ़िल्मों में से एक बन गई.

(कॉमेडी या फ़ूहड़ मज़ाक)

Image caption विवेक ओबेरॉय को इस बात पर हैरानी है कि 'ग्रैंड मस्ती' जैसी एडल्ट कॉमेडी को महिलाओं ने बड़ी संख्या में देखा.

विवेक ओबेरॉय इन दिनों अपनी आने वाली फ़िल्म 'कृष-3' को लेकर बड़े उत्साहित हैं. फ़िल्म में वो खलनायक बने हैं.

ऋतिक रोशन और प्रियंका चोपड़ा की मुख्य भूमिका वाली ये फ़िल्म एक सुपरहीरो फ़िल्म है जिसमें विवेक बेहद शक्तिशाली काल का किरदार निभा रहे हैं.

उम्मीद

विवेक ये दावा तक कर देते हैं कि यह फ़िल्म उनके करियर की दिशा ही बदल देगी.

विवेक दावा करते हैं कि उन्होंने अपने करियर में अलग-अलग तरह के रोल किए हैं. हालांकि इनमें से कामयाबी उन्हें कितनी फ़िल्मों में मिली है ये पूछने पर वो हंसते हुए बात टाल जाते हैं.

फिर वो कहते हैं, "मेरी पिछली सोलो रिलीज़ जयंता भाई की लव स्टोरी थी. जिसके सुपरफ़्लॉप होने की मैं ज़िम्मेदारी लेता हूं."

विवेक ओबेरॉय ने रामगोपाल वर्मा की फ़िल्म 'कंपनी' से अपना करियर शुरू किया था. फ़िल्म में उनके अभिनय को काफ़ी सराहा गया था.

फिर यशराज बैनर की फ़िल्म 'साथिया' में भी वो सराहे गए और फ़िल्म कामयाब हो गई. लेकिन विवेक के करियर में उसके बाद फ़्लॉप फ़िल्मों की लंबी कतार लग गई.

उन्होंने उम्मीद जताई कि 'ग्रैंड मस्ती' और अब 'कृष-3' से उनके करियर को सहारा मिलेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

संबंधित समाचार