सोनम कपूर को किस की फिल्में पसंद हैं

सोनम कपूर

अभिनेत्री सोनम कपूर अपनी फ़िल्मों से ज़्यादा अपने स्टाइल के लिए चर्चा में रहती हैं.

सोनम दुनिया भर की फ़िल्में देखती हैं और आला दर्जे के डायरेक्टरों के साथ काम करना चाहती हैं.

गुरुवार को 15वें मुंबई फ़िल्म फ़ेस्टिवल के आख़िरी दिन जब सोनम से विश्व सिनेमा में उनकी रुचि के बारे में सवाल पूछा गया तो सोनम ने छूटते ही जवाब दिया, "मैं वर्ल्ड सिनेमा की बहुत बड़ी दीवानी हूँ. मैं बॉलीवुड का हिस्सा हूँ इसलिए मैं खुद को वर्ल्ड सिनेमा का हिस्सा मानती हूँ."

वो कहती हैं, "मैं जितनी फ़िल्में देख सकती हूँ देखती हूँ. मैंने यह पेशा अपनी मर्ज़ी से चुना है और अगर मैं फ़िल्में नहीं देखती तो यह रियाज़ न करने जैसा होगा. यह अपने पेशे को छोटा दिखाना होगा."

अगर सोनम वर्ल्ड सिनेमा की फैन हैं तो यह सवाल लाज़मी था कि उनके पसंदीदा निर्देशक कौन हैं. इस पर सोनम का कहना था कि वो वर्ल्ड सिनेमा के दो स्टीवन की बहुत बड़ी फैन हैं.

सोनम बोलीं. "हॉलीवुड के बहुत से निर्देशक मुझे पसंद हैं जिनके साथ मैं काम करना चाहूँगी लेकिन मैं सबसे बड़ी फैन स्टीवन स्पिलबर्ग और स्टीवन सोडेनबर्ग की हूँ. मैं दोनों के साथ काम करना चाहूँगी. दोनों बिल्कुल अलग-अलग तरह के निर्देशक हैं. दोनों ही कमर्शियल और आर्ट दोनों तरह की फ़िल्में बनाने में माहिर हैं."

पसंदीदा फ़िल्म

पत्रकारों ने जब उनसे उन फ़िल्मों के बारे में पूछा जिनसे वो बहुत प्रभावित हुई हों तो सोनम ने विश्व सिनेमा की दो और अपने पिता अनिल कपूर की एक फ़िल्म का नाम लिया.

सोनम ने कहा 'लाइफ इज ब्यूटीफूल', 'एमी' फ़िल्में उन्हें बहुत पसंद हैं. उन्हें अपने पिता की फ़िल्म 'ईश्वर' ने बहुत प्रभावित किया.

सोनम ने इन फ़िल्मों को पसंद करने की वजह बताते हुए कहा, "इन फ़िल्मों में मनुष्य की जिजीविषा का ख़ूबसूरत प्रदर्शन है. इन फ़िल्मों में उन लोगों की कहानी है जो ज़िंदगी को प्यार करते थे और जीवन को हमेशा सकारात्मक तरीके से देखते थे. इसीलिए इऩ तीनों फ़िल्मों ने मेरे ऊपर गहरा प्रभाव छोड़ा है."

जब सोनम से यह पूछा गया कि हॉलीवुड के किस हीरो के साथ वो काम करना चाहेंगी तो सोनम ने इस सवाल को यह कहकर ख़ारिज कर दिया, "हॉलीवुड हो या बॉलीवुड, यह कहना कि मुझे इन हीरो के साथ काम करना पसंद है, असल में निर्देशक को कमतर करके आंकना है."

निर्देशक का मीडियम

Image caption सोनम कपूर की फ़िल्म रांझणा हिट रही थी.

सोनम ने कहा, "फ़िल्म निर्देशक का मीडियम है तो मैं एक्टर को चुनने की बजाय डायरेक्टर को चुनना पसंद करूँगी. मैं निर्देशक और अपने चरित्र को चुनना चाहूँगी. निर्देशक और टेक्निकल टीम ही फ़िल्म बनाती है."

जब सोनम से यह पूछा गया कि क्या वो ख़ुद आर्ट फ़िल्मों में काम करेंगी तो उन्होंने पत्रकारों को यह कहकर निरुत्तर कर दिया कि "मुझे लगता है कमर्शियल और आर्ट सिनेमा में फर्क नहीं करना चाहिए, मेरे लिए दोनों सिनेमा है"

फ़ेस्टिवल की तारीफ करते हुए सोनम ने कहा, "इस तरह के फ़ेस्टिवल मुंबई शहर, यहाँ के सिनेमा और दूसरी चीजों को प्रमोट करने का बहुत अच्छा मौका है. यह हमारे शहर और इसकी भावना को दिखाने का अच्छा तरीका है."

सोनम फेस्टिवल में खालिद मोहम्मद की डॉक्यूमेंट्री 'लिटिल बिग पीपुल' को प्रस्तुत करने के लिए आई थीं.

सोनम ने कहा, "मैं मुंबई फ़िल्म फेस्टिवल में पहली बार आई हूँ. मुझे पहले मौका नहीं मिला. लेकिन मैं आगे से एक आम दर्शक की तरह ज़रूर आना चाहूँगी."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार