'शोले' देखकर भावुक हुए सनी देओल

‏'शोले 3-डी'

साल 1975 की सुपरहिट फ़िल्म शोले को थ्री डी रूप में देखकर फ़िल्म में मुख्य भूमिका निभाने वाले धर्मेंद्र के बेटे सनी देओल भावुक हो गए.

फ़िल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग देखने पहुंचे सनी देओल ने कहा कि ये फ़िल्म युवा फ़िल्मकारों और कलाकारों के लिए एक मिसाल है.

(कैसे बचा गब्बर ज़िंदा)

सनी देओल ने राजकमल स्टूडियो में इसका ख़ास शो देखने के बाद पत्रकारों से कहा, "ये एक ऐसी फ़िल्म है जिससे सारा देश जुड़ा हुआ है. पूरी फ़िल्म के दौरान मैं बहुत भावुक हो गया था. घर जा कर मैं पापा को झप्पी दूंगा."

'पापा और अमित जी बेमिसाल'

Image caption ‏'शोले 3-डी', तीन जनवरी को रिलीज़ हो रही है.

उनसे जब पूछा गया कि इस दौर के कौन से कलाकार हैं जो जय (अमिताभ बच्चन) और वीरू (धर्मेंद्र) के किरदार निभाने के लिए फ़िट हैं. जिसके जवाब में सनी ने कहा, "पापा और अमित जी ने जो काम किया है वैसा काम तो हम लोग कभी कर ही नहीं सकते. इसलिए इस बात का कोई जवाब नहीं दिया जा सकता."

(थ्री डी में 'शोले')

सनी देओल ने कहा कि नई फ़िल्मों को देखते देखते लोगों का ध्यान इधर-उधर भटक जाता है लेकिन शोले तो शुरू से आख़िर तक बांधे रखती है.

उन्होंने कहा, "इस फ़िल्म को देखकर हम आज के कलाकारों को अपने काम पर शर्म आ जाती है कि हम क्या हैं. शोले का कोई जवाब नहीं. पापा, अमित जी, अमजद जी, संजीव जी ने क्या कमाल का काम किया है. पूरी फ़िल्म ही ज़बरदस्त है. लोगों को इसे देखकर सीखना चाहिए कि फ़िल्म बनाई कैसे जाती है."

'हॉलीवुड को जवाब'

इस स्पेशल स्क्रीनिंग पर पहुंचे फ़िल्मकार डेविड धवन ने भी शोले से जुड़े अपनी यादें ताज़ा की.

उन्होंने कहा, "ये फ़िल्म बेमिसाल है. इस फ़िल्म की हर बात निराली है चाहे जय-वीरू की दोस्ती या वीरू-बसंती का रोमांस. हॉलीवुड को ये बॉलीवुड का जवाब है. शोले से कोई भी फ़िल्म बराबरी नहीं कर सकती."

फ़िल्म को थ्री डी में बदला गया है और इसका ये संस्करण तीन जनवरी को रिलीज़ हो रहा है.

फ़िल्म के निर्देशक रमेश सिप्पी इसे थ्री डी में बदलने के फ़ैसले से ज़्यादा ख़ुश नहीं हैं लेकिन फ़िल्म से जुड़े कलाकारों और फ़िल्म के लेखक सलीम-जावेद ने इस पहल का स्वागत किया है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं)

संबंधित समाचार