जब लालू और अटल बने शेखर सुमन के मुरीद

शेखर सुमन, सचिन तेंदुलकर, अध्ययन सुमन. इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption फ़िल्म 'हार्टलेस' के प्रमोशन के दौरान (बाएं से) शेखर सुमन, सचिन तेंदुलकर, अध्ययन सुमन.

90 के दशक में शेखर सुमन टीवी पर अपना शो लेकर आए 'मूवर्स एंड शेकर्स'. तत्कालीन सामाजिक और राजनैतिक मुद्दों को हास्य के पुट में परोसने वाला ये शो ख़ासा चर्चित हुआ और साथ ही मशहूर हुआ शेखर सुमन का वो ख़ास अंदाज़ जिसमें वो अटल बिहारी वाजपेई और लालू यादव सरीख़े नेताओं की नकल किया करते थे.

बीबीसी से हुई ख़ास बातचीत में शेखर सुमन ने वो पुराने दिन याद किए और साथ ही इन नेताओं से अपने संबंधों का भी ज़िक्र किया.

शेखर ने बताया, "एक दफ़ा तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई एक शादी समारोह में शरीक होने आए. वहां मैं भी था. जब वो जाने लगे तो सब उन्हें विदा करने के लिए खड़े हो गए. अचानक उनकी कार रुकी. वो उतरकर धीरे-धीरे मेरे पास आए. और मेरे गाल को प्यार से थपथपाते हुए कहा आप मेरी नकल बहुत अच्छे से करते हैं. ऐसा करते रहिए."

लालू की नकल और दोस्ती

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption (बाएं से) शेखर सुमन की पत्नी अलका सुमन, शेखर सुमन, अरियाना अयम, अध्ययन सुमन.

शेखर अपने इस शो में अक्सर लालू यादव का भी मज़ाक उड़ाया करते थे. क्या कभी लालू ने बुरा नहीं माना?

इसके जवाब में शेखर ने कहा, "मेरे सामने तो नहीं लेकिन मुझे ऐसा बताया गया था कि वो नाराज़ होते हैं. लेकिन जब मुझसे वो मिलते तो बड़े प्यार से मिलते." शेखर ने बताया कि जब वो पटना जाते तो लालू उन्हें अपने घर बुलाते और उनकी ख़ूब आवभगत करते.

उन्होंने कहा, "लेकिन लालू जी के बच्चे मुझे बड़े ग़ुस्से से देखते. मानो कह रहे हों कि अच्छा बच्चू तुम्हीं हो जो हमारे पापा का मज़ाक उड़ाते हो. लेकिन मैं लालू जी के परिवार को समझाता कि ये सब शो में किया गया मज़ाक है. इसे गंभीरता से लेने की ज़रूरत नहीं."

हार्टलेस

इमेज कॉपीरइट Heartless
Image caption शेखर सुमन के निर्देशन वाली फ़िल्म 'हार्टलेस' शुक्रवार को रिलीज़ हुई.

इस शुक्रवार को बतौर निर्देशक शेखर सुमन की पहली फ़िल्म रिलीज़ हुई'हार्टलेस'. जिसमें उनके छोटे बेटे अध्ययन सुमन और अरियाना अयम की मुख्य भूमिका है.

बीबीसी से बात करते हुए शेखर ने बताया कि उनकी ये फ़िल्म उनके बड़े बेटे आयुष को समर्पित है जिनका महज़ 10 साल की उम्र में दिल की एक गंभीर बीमारी की वजह से निधन हो गया था.

अपने बेटे को याद करते हुए शेखर कई बार भावुक भी हुए. उन्होंने बताया कि फ़िल्म से जो भी कमाई होगी उसे वो दिल की बीमारी से पीड़ित ग़रीब बच्चों के इलाज के लिए देंगे.

ग़लती

इस दौरान शेखर सुमन ने अपने टीवी करियर के अलावा अपने फ़िल्मी करियर के बारे में भी बातें कीं. उन्होंने माना कि अपने करियर में उन्होंने कुछ ग़लतियां कीं जिन्हें अब वो नहीं दोहराएंगे.

उन्होंने कहा, "डेविड धवन के निर्देशन वाली और बॉबी देओल की मुख्य भूमिका वाली फ़िल्म चोर मचाए शोर में मेरा जो रोल था, मैं मानता हूं कि मुझे वैसे रोल नहीं करने चाहिए थे. लेकिन डेविड और बॉबी देओल मेरे दोस्त हैं. इसलिए मैंने वो कर लिया. लेकिन अब मैं महज़ दोस्ती की ख़ातिर ऐसे रोल नहीं करूंगा जो मुझे पसंद नहीं."

‏शेखर ने इस बातचीत में ये भी माना कि टीवी पर कुछ कॉमेडी शो जज करने की भूमिका का उन्होंने बहुत लुत्फ़ उठाया लेकिन अब इऩ शोज़ में बढ़ रही अश्लीलता की वजह से वो इनसे दूर हो गए हैं.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार