मैं माधुरी दीक्षित की फ़िल्म रिलीज़ नहीं होने दूंगी: संपत पाल

इमेज कॉपीरइट spice

माधुरी दीक्षित और जूही चावला के अभिनय वाली बहुचर्चित फ़िल्म गुलाब गैंग की रिलीज़ जैसे जैसे नज़दीक आ रही है लगता है मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं.

उत्तरप्रदेश के बुंदेलखंड इलाक़े में महिलाओं का गुलाबी गैंग गठित करने वाली संपत पाल ने कहा है कि इस फ़िल्म के सिनेमाघरों में रिलीज़ होने से पहले ही वे भूख हड़ताल पर बैठ जाएंगी.

गुलाबी गैंग पर निष्ठा जैन निर्देशित डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग पर पहुंची संपत माधुरी दीक्षित पर ग़ुस्सा निकालती नज़र आईं.

उन्होने मीडिया से कहा, ‘‘ वो क्या फ़िल्म बनाएंगी वो कभी मुझसे मिलने आई हैं. कभी हमें देखा है.बिना हमारी इजाज़त के हम पर फ़िल्म बना रही हैं. अनुभव सिन्हा अपनी फ़िल्म का सपना भूल जाएं. फ़िल्म 7 मार्च को रिलीज़ होगी और मैं उससे पहले 2 मार्च से अन्ना जैसे अनशन करूंगी.तब समझ में आ जाएगा कि महिलाओं में क्या ताक़त होती है.’’

हालांकि गुलाब गैंग के निर्देशक सौमिक सेन ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा है कि ''फ़िल्म बिल्कुल काल्पनिक है.इसमें तो साड़ियों का रंग ही गुलाबी नहीं है.ऐसी कोई भी बात कहने से पहले उन्हें फ़िल्म देखनी चाहिए''

हाल ही में माधुरी दीक्षित ने भी कहा है कि ‘गुलाब गैंग’ फ़िल्म की कहानी और गुलाबी गैंग में कोई समानता नही हैं.

माधुरी से ख़फ़ा

संपत पाल ख़ासतौर पर माधुरी दीक्षित से ख़ासी नाराज़ दिखाई दीं.

वे कहती हैं,‘‘ये देश तमाशे में चल रहा है.हमने अपनी ज़िंदगी क़ुर्बान कर दी और माधुरी दीक्षित ने एक बार में ही महिला सशक्तिकरण चला दिया.ऐक्टिंग के लिए ये लोग करोड़ों रूपए ले रही हैं. ये क्या तमाशा है. देश का पैसा इसी सबमें बर्बाद हो रहा है.’’

संपत ने फ़िल्मकारों को महिलाओं का सही प्रस्तुतिकरण ना करने के लिए कार्यवाई करने की चेतावनी भी दी डाली है.

मुक़दमा

इमेज कॉपीरइट AFP

संपत पाल ने कहा कि ये फ़िल्म उनकी ज़िंदगी पर आधारित है लेकिन उनसे बात नहीं की गई है इसलिए फ़िल्म से जुड़े लोगों के ख़िलाफ़ मुक़दमा दायर किया गया है.

संपत के मुताबिक़ ‘‘हाई-कोर्ट में मुक़दमा डाल दिया गया है. उन सबको पार्टी बनाया गया है. वो हमसे इजाज़त लें. अगर इजाज़त नहीं लेते हैं तो हम फ़िल्म रिलीज़ नहीं होने देंगे.’’

संपत फ़िल्म में कुछ बदलावों की मांग कर रही हैं. वो कहती हैं,‘‘उनको इजाज़त तो हम तभी देंगे जब वो किरदार का नाम रज्जो से बदल कर संपत करेंगी और गुलाब से बदल कर गुलाबी करेंगी.’’

विरोध की चेतावनी

संपत पाल ने खुलकर अपना विरोध दर्ज कराते हुए कहा कि फ़िल्मकार अभद्र फ़िल्में बनाते हैं और ये अब ज़्यादा दिन बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

संपत कहती हैं, ‘‘अभी तो हमारा ध्यान महिलाओं की समस्याएं सुलझाने में है लेकिन जिस तरह की गंदी फ़िल्में लोग बनाते हैं हम उसका विरोध ज़रूर करेंगे. मैं एक झटका दे दूं तो सारी महिलाएं सेंसर बोर्ड का घेराव कर लेंगी और हम ये करेंगे.लगता है गुलाबी गैंग जल्दी ही समुद्र पर छा जाएगा.’’

निर्देशन सौमिक सेन गुलाब गैंग से हिंदी फ़िल्म उद्योग में क़दम रख रहे हैं. इस फ़िल्म की चर्चा माधुरी दीक्षित और जूही चावला के एक साथ स्क्रीन पर आने की वजह से भी हो रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार