'फ़िल्मी सितारे सिखा सकते हैं सबक'

इमेज कॉपीरइट AFP

अभिनेता अनुपम खेर इन दिनों राजनैतिक रंग में रंगे हुए हैं. उनके पास वाजिब वजह भी है.

आगामी लोकसभा चुनावों के लिए अनुपम खेर की पत्नी किरण खेर चंडीगढ़ से प्रत्याशी हैं और अनुपम खेर पूरे ज़ोर-शोर से पत्नी के समर्थन में आवाज़ बुलंद कर रहे हैं.

अनुपम कहते हैं कि उनकी पत्नी को उनका पूरा समर्थन है और ये सब सोचना ग़लत है कि फ़िल्मों में काम करने वाले लोग राजनीति में नहीं आ सकते.

फ़िल्मी कलाकारों के राजनीति में क़दम रखने की आलोचना पर प्रेस से बातचीत करते हुए अनुपम ने कहा, ‘‘ये ग़लतफ़हमी है कि फ़िल्मी सितारे राजनीति नहीं कर सकते या अगर राजनीति में आ भी जाएं तो उन्हें कुछ समझ नहीं आता. ये सब सही नहीं है. फ़िल्म इंडस्ट्री में ऐसे कई सितारे हैं जो नेताओं को सबक सिखा सकते हैं.’’

28 बरस से किरण खेर के साथ वैवाहिक जीवन बिता रहे किरण खेर कहते हैं कि पति के तौर पर और एक दोस्त के तौर पर वो उन्हें बेहद क़रीब से जानते हैं.

किरण पर भरोसा

इमेज कॉपीरइट hoture
Image caption किरण खेर चंडीगढ़ से चुनाव प्रत्याशी हैं.

हालांकि ख़ुद चुनाव लड़ने के सवाल पर अनुपम कहते हैं, ‘‘घर पर एक सदस्य ही काफ़ी है. मैं हर तरह से किरण के साथ हूं. मेरे जैसा शख़्स ही एक दबंग महिला को बेहतर समझ सकता है.’’

अनुपम खेर कहते हैं कि उनकी पृष्ठभूमि इस तरह की है कि महिलाओं की तरफ़दारी करना उनके अंदर बस गया है. ये प्रवृत्ति उन्हें उनके घर से मिली है.

किरण खेर का जन्म तो चंडीगढ़ में हुआ था लेकिन वो पिछले कईं बरस से मुंबई में बसी हुई हैं. उन्होने 2009 में बीजेपी का रूख़ किया था.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार