कैंसर ने ख़ुद की देखभाल सिखा दी: मनीषा कोइराला

मनीषा कोईराला इमेज कॉपीरइट Hoture

मनीषा कोइराला को साल 2012 में गर्भाशय का कैंसर होने का पता लगा. उनके प्रशंसकों और परिवार वालों को ज़बरदस्त झटका लगा लेकिन मनीषा ने कैंसर को मात दी और अब वो ठीक होकर वापस अपने प्रशंसकों के सामने हैं.

उन्होंने हाल ही में महिलाओं के स्वास्थ्य से जुड़ी एक पत्रिका के लिए फ़ोटोशूट भी कराया.

(मनीषा की नई पारी)

इस मौक़े पर मनीषा कोइराला ने कैंसर के मरीज़ों को संदेश देते हुए कहा, "इस बीमारी में पॉज़िटिव रहना बहुत ज़रूरी है. हमेशा डर बना रहता है कि ये बीमारी कहीं फिर से न आ जाए."

वे कहती हैं, "मुझे जिस तरह का कैंसर हुआ था वो कभी भी वापस आ सकता है. लेकिन हर क़ीमत पर हमें पॉजिटिव रहना होता है. तभी हम इस बीमारी को हरा पाएंगे."

'पहले मैं लापरवाह थी'

इमेज कॉपीरइट Hoture Images

मनीषा ने ये भी बताया कि कैंसर ने उन्हें शरीर की देखभाल करना सिखा दिया.

वो कहती हैं, "पहले मैं अपने शरीर की बिल्कुल भी परवाह नहीं करती थी. खाने-पीने में ज़रा भी अनुशासन नहीं था."

उन्होंने बताया, "मैं बड़ी लापरवाह थी. लेकिन इस बीमारी ने मुझे अपने शरीर की अपने मन की अहमियत समझा दी है. अब मैं अपना ध्यान रखती हूं."

परिवार और बॉलीवुड का सहारा

इमेज कॉपीरइट Hoture Images

मनीषा ने बताया कि बीमारी के दौरान उनके परिवार का उन्हें बड़ा सपोर्ट मिला जो इस बीमारी से निपटने के लिए बहुत ज़रूरी है.

(ये हीरोइनों का वक़्त है: मनीषा कोइराला)

वो कहती हैं, "मेरे मां-बाप, मेरा भाई सब मुझे हंसाते रहते थे. मेरा भाई मेरा मूड हल्का रखने के लिए ख़ूब जोक्स सुनाता, मुझे फ़िल्में दिखाता था. इस बीमारी के बाद हम एक दूसरे के और क़रीब आ गए."

मनीषा ने ये भी बताया कि तब्बू उनसे हमेशा संपर्क में रहीं और उनका हौसला बढ़ाया.

इसके अलावा गुलशन ग्रोवर और शत्रुघ्न सिन्हा भी उनका हाल-चाल लेते रहे. उनके परिवार से संपर्क में रहे और उत्साह बढ़ाते रहे.

जागरुकता

इमेज कॉपीरइट Maniisha Koirala
Image caption मनीषा कोइराला को साल 2012 में कैंसर का पता लगा. ये तस्वीर उससे पहले की है.

मनीषा के मुताबिक़ वो अपने आपको कोई हीरो नहीं कहलवाना चाहतीं. उनकी ये तमन्ना क़तई नहीं है कि लोग बार-बार कहें कि इस बहादुर महिला ने कैंसर को मात दी. लेकिन वो इसके प्रति जागरुकता फैलाने की हर मुमकिन कोशिश करना चाहती हैं.

मनीषा ने कहा, "अगर मैं पब्लिक फ़िगर हूं, मुझे कोई प्लेटफॉर्म मिला है तो मैं इस बीमारी के प्रति लोगों में जागरुकता फैलाना चाहती हूं. ताकि लोग सावधान रहें. ज़िंदगी के प्रति सकारात्मक रवैया अपनाएं. ख़ुश रहें और अपने शरीर का ध्यान रखें. साथ ही अपनी जीवन शैली में अनुशासन बनाए रखें."

वापसी की तमन्ना

मनीषा कोइराला फ़िल्मों में कब वापसी करेंगीं. इसके जवाब में उन्होंने कहा, "मैं भी बड़े पर्दे पर दिखने के लिए बेताब हूं. लेकिन कोई मज़ेदार सा रोल मिले तो करूं. मेरे पास प्रस्ताव तो आ रहे हैं लेकिन वो रोल कोई महत्वपूर्ण रोल नहीं हैं. मैं दो या चार मिनट के लिए किसी फ़िल्म में काम नहीं करना चाहती."

मनीषा ने बताया कि वो अपनी ज़िंदगी के इस दौर का भरपूर लुत्फ़ उठा रही हैं. वो जिम जाती हैं, व्यायाम करती हैं. योग भी करती हैं, पेंटिग करती हैं और साथ ही वो अपनी एक किताब भी लिख रही हैं.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार