महमूद की 'बॉम्बे टू गोआ' फिर बड़े परदे पर

'बॉम्बे टू गोआ' इमेज कॉपीरइट Anwar Ali
Image caption दिवंगत महमूद के छोटे भाई अनवर अली 'बॉम्बे टू गोआ' को फिर रिलीज़ करने की योजना बना रहे हैं.

बस में नाचते-गाते अरुणा ईरानी से 'रोमांस' फ़रमाते दुबले-पतले अमिताभ बच्चन याद हैं आपको.

एक-दूसरे से लड़ते झगड़ते, नोंक-झोंक करते ड्राइवर अनवर अली और कंडक्टर महमूद याद हैं आपको.

हम बात कर रहे हैं 1972 की फ़िल्म 'बॉम्बे टू गोआ' की जिसे महमूद ने बनाया था.

फ़िल्म ने भले ही उस दौर में बॉक्स ऑफ़िस पर धमाकेदार व्यापार न किया हो लेकिन आने वाले कई सालों तक टीवी पर लोगों ने इसका लुत्फ़ उठाया.

(बड़े-बड़े हीरो डरते थे महमूद से: जूनियर महमूद)

भले ही इस फ़िल्म के रिलीज़ होने के बाद भी अमिताभ बच्चन को स्टारडम पाने के लिए प्रकाश मेहरा की 'ज़ंजीर' तक का इंतज़ार करना पड़ा हो लेकिन 'बॉम्बे टू गोआ' से उन्हें एक पहचान ज़रूर मिली और ख़ुद अमिताभ को यह विश्वास कि वह लंबे होने के बावजूद डांस कर सकते हैं.

अब उसी 'बॉम्बे टू गोआ' को फिर से रिलीज़ करने की तैयारियां चल रही हैं और यह बीड़ा उठाया है महमूद के छोटे भाई अनवर अली और उनके परिवार ने.

महमूद को श्रद्धांजलि

अनवर ने 'बॉम्बे टू गोआ' में बस ड्राइवर की भूमिका निभाई थी. वह बतौर अभिनेता अमिताभ बच्चन की पहली फ़िल्म 'सात हिंदुस्तानी' में भी थे.

(41 साल बाद डब्बाबंद फ़िल्म रिलीज़)

बीबीसी से बात करते हुए अनवर अली ने बताया कि इस साल महमूद की 10वीं बरसी है और उनको श्रद्धांजलि देने के लिए उनके परिवार ने 'बॉम्बे टू गोआ' को रिलीज़ करने की योजना बनाई है जिसके लिए कुछ वितरकों से और सिनेमाहॉल मालिकों से बात चल रही है.

इमेज कॉपीरइट Anwar Ali

अनवर अली ने बताया, "12 अप्रैल को फ़िल्म की प्राइवेट स्क्रीनिंग रखी गई है. जिसमें फ़िल्म से जुड़े कलाकार जैसे अमिताभ बच्चन, शत्रुघ्न सिन्हा और दूसरे कलाकार भी आएंगे."

(संजीव कुमार की यादें)

उन्होंने बताया कि अमिताभ बच्चन इस समारोह के मुख्य अतिथि होंगे.

'बॉम्बे टू गोआ' ही क्यों ?

महमूद ने कई यादगार फ़िल्में दीं. 'भूत बंगला', 'प्यार किए जा', 'पड़ोसन' सहित महमूद की कॉमेडी आज भी उनके प्रशंसक याद करते हैं.

ऐसे में उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए 'बॉम्बे टू गोआ' ही क्यों जो अपने ज़माने में ज़्यादा कामयाब भी नहीं थी.

इसके जवाब में अनवर अली कहते हैं, "फ़िल्म महमूद भाईजान के बेहद क़रीब थी. यह एक कॉमेडी फ़िल्म थी. कॉमेडी, सभी को पसंद आती है. इस फ़िल्म में आज के दर्शकों को पूरी तरह से 70 के दशक की छाप देखने को मिलेगी. वैसे भी यह फ़िल्म एक सफ़र के ज़रिए ज़िंदगी की कहानी बयां करती है. इसलिए हमने इस फ़िल्म को चुना."

(हरफ़नमौला आई एस जौहर)

लेकिन क्या इस दौर के दर्शकों को यह फ़िल्म पसंद आएगी.

इमेज कॉपीरइट Anwar Ali
Image caption (बाएं से- अनवर अली, रंजीत, अमिताभ बच्चन, डैनी)

इसके जवाब में अनवर अली बोले, "देखिए महमूद भाई ने हमेशा दिल से फ़िल्में बनाईं. उन्होंने कमाई की कभी परवाह नहीं कीं. लेकिन हां, जो लोग बॉम्बे टू गोआ रिलीज़ करेंगे ज़ाहिर सी बात है वह इसके व्यावसायिक पहलू पर भी ध्यान देंगे. लेकिन मेरा दावा है कि फ़िल्म को अच्छी प्रतिक्रिया मिलेगी और यह सबके लिए मुनाफ़े का सौदा साबित होगी."

अमिताभ हैं पारिवारिक सदस्य

अनवर अली ने फ़िल्म की शूटिंग के वक़्त को याद करते हुए बताया कि सेट पर पूरी तरह से पिकनिक का माहौल रहता था.

उन्होंने कहा, "हालांकि मेरे और अमिताभ के लिए वह समय संघर्ष का दौर था लेकिन उस संघर्ष की भी बड़ी मीठी यादें हैं. हमने बहुत मज़े किए."

(प्राण: वो विलेन जो हीरो पर हावी था)

अमिताभ के बारे में अनवर बोले, "पहले महमूद भाई हमारे लिए पिता समान थे. अब बच्चन साहब मेरे परिवार के सीनियर सदस्य की तरह हैं. उन्होंने हमारी इस पहल को पूरा समर्थन दिया है."

अनवर अली ने बताया कि आईपीएल और चुनाव के बाद ही फ़िल्म को फिर से रिलीज़ किया जाएगा ताकि ज़्यादा से ज़्यादा दर्शक इसका लुत्फ़ उठा सकें.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार