बिना ग्लिसरीन के ही रो पड़ती थी : मौसमी चटर्जी

  • 26 अप्रैल 2014
मौसमी चटर्जी Image copyright moushumi chatterjee

16 साल में मौसम चटर्जी की अपने करियर की शुरुआत बांग्ला फ़िल्म 'बालिका बधु' से और उसके बाद इन्होनें पहली हिंदी फिल्म की 'अनुराग' साल 1972 में.

मौसमी चटर्जी आज पूरे 66 साल की हो गई हैं. उनका जन्म कोलकाता में हुआ और वो वहीं पली बढ़ीं.

उन्होंने कई बेहतरीन फ़िल्में की हैं जैसे 'अंगूर', 'मंज़िल' और 'रोटी कपड़ा और मकान'. उन्होंने राजेश खन्ना, शशि कपूर, जीतेंद्र, संजीव कुमार, विनोद मेहरा और अमिताभ बच्चन जैसे बेहतरीन कलाकारों के साथ काम किया है.

आजकल मौसमी चटर्जी कोलकाता में रह रहीं हैं. उनके जन्मदिन पर बीबीसी ने की उनसे ख़ास बातचीत.

'बिना ग्लिसरीन के ही रो पड़ती थी'

मौसमी चटर्जी के बारे में कहा जाता था कि वो रोने वाले दृश्य बड़े ही सरलता के साथ कर लेती थीं और इसके लिए उन्हें ग्लीसरीन की भी ज़रूरत नहीं पड़ती थी.

Image copyright Moushumi Chatterjee

जब हमने ये सवाल मौसमी से पुछा तो वो मुस्कुराती हुई बोलीं, "हां ये सच है. ये भी ऊपरवाले का दिया हुआ एक वरदान है."

वो आगे कहती हैं, "जब किसी दृश्य में मुझे रोना होता था तो मैं सोचती थी कि ये मेरे साथ सच में हो रहा है और मैं रो पड़ती थी."

'फैंस ने बहुत इज़्ज़त दी'

मौसमी चटर्जी बहुत ही मशहूर अभिनेत्री थीं. फैंस इन्हें हर जगह घेरे रखते थे.

पर जैसे आजकल कई फैंस अभिनेत्रियों के पीछा करते हैं उन्हें तंग करते हैं, क्या ऐसा कोई वाक़या हुआ मौसमी चटर्जी के साथ?

Image copyright Moushumi Chatterjee
Image caption मौसमी चटर्जी की पहली फ़िल्म 'बालिका बधु'.

इस पर मौसमी ने कहा,"नहीं मुझे कभी भी मेरे फैंस से कोई बुरा बर्ताव देखने को नहीं मिला. मैं जहां भी गई लोगों ने मुझे बहुत प्यार दिया, मेरा बहुत सम्मान किया."

वो आगे कहती हैं, "मैं समझती हूं कि मैंने जितने भी किरदार निभाए वो सब बड़े घरेलू थे और इसी वजह से मुझे लोगों से काफी प्यार मिलता था. सही बताऊं तो मैंने बहुत ज़ल्दी काफ़ी गंभीर किरदार निभाने शुरू कर दिए क्योंकि मुझे एक्सपोज़ करना पसंद नहीं था."

'अमिताभ बच्चन ने बहुत मेहनत की'

मौसमी चटर्जी ने 'बिग बी' अमिताभ बच्चन के साथ 'मंज़िल' फ़िल्म में काम किया और उस वक़्त अमिताभ बच्चन अपने करियर के शुरुआती दौर में थे.

पर क्या मौसमी को ये पता था कि अमिताभ बच्चन इतने बड़े सुपरस्टार बन जाएंगे?

Image copyright moushumi chatterjee

इस सवाल के जवाब में मौसमी बोलीं,"मैंने कभी सोचा नहीं था किसी के बारे में भी क्योंकि मैं ख़ुद भी काफ़ी मशग़ूल रहती थी. पर अमिताभ बच्चन ने काफी मेहनत की है 'बिग बी' बनने के लिए. उन्हें बहुत सारा स्ट्रगल करना पड़ा उस जगह पर पुहंचने के लिए जहां वो आज हैं और ऐसे लोगों के परिवार वालों को भी काफ़ी स्ट्रगल से गुज़रना पड़ता है."

वो कहती हैं," मैं अमिताभ बच्चन की सफलता का श्रेय जया बच्चन को भी देना चाहूंगी क्योंकि वो भी फ़िल्म इंडस्ट्री में काम कर रही थीं. अमिताभ बच्चन एक पारिवारिक आदमी भी हैं और जया बच्चन ने उनके परिवार को काफ़ी अच्छे से संभाल रखा है."

मौसमी चटर्जी आजकल बंगाली फ़िल्में कर रही हैं और वो बॉलीवुड फ़िल्म भी करने को तैयार हैं बशर्ते उनके पास एक अच्छी स्क्रिप्ट आए.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉइड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप बीबीसी हिंदी के फ़ेसबुक और ट्विटर से भी जुड़ सकते हैं)

संबंधित समाचार