फ़िल्म रिव्यू: 'एक विलेन'

एक विलेन इमेज कॉपीरइट Ek Villain

रेटिंग: ****1/2

एक विलेन है कहानी एक खलनायक की जो दो प्रेमियों की ज़िंदगी में तूफ़ान ला देता है.

सिद्धार्थ मल्होत्रा एक अपराधी, गुरु का किरदार निभा रहे हैं जो आयशा (श्रद्धा कपूर) से प्यार कर बैठता है और उसके बाद उसकी ज़िंदगी बदल जाती है.

लेकिन उनकी ज़िंदगी में क़हर बन कर आता है राकेश (रितेश देशमुख) जो अपनी पत्नी (आमना शरीफ़) से बेहद ख़राब रिश्ते की वजह से औरतों से नफ़रत करने लगता है और वो सीरियल किलर बन जाता है. इसी दौरान वो आयशा (श्रद्धा कपूर) की हत्या कर देता है.

ज़बरदस्त स्क्रीनप्ले

इमेज कॉपीरइट Ek Villain
Image caption फ़िल्म में सिद्धार्थ मल्होत्रा और श्रद्धा कपूर ने बेहतरीन अभिनय किया है.

एक विलेन की कहानी कोरियाई फ़िल्म 'आई सॉ द डेविल' पर आधारित है. तुषार हीरानंदानी की लिखी कहानी बड़ी दिलचस्प है और दर्शकों को बांधे रखती है.

(रिव्यू: 'हॉलीडे')

स्क्रीनप्ले भी लाजवाब है. निर्देशक मोहित सूरी ने पूरी फ़िल्म में लाजवाब तरीक़े से सस्पेंस को बनाए रखा है जिससे दर्शक अपनी सीट से उठ भी नहीं पाते.

फ़िल्म बार-बार फ़्लैश बैक में जाती है लेकिन उसके बावजूद निर्देशन और लेखन बेहतरीन होने की वजह से दर्शकों को किसी तरह की उलझन नहीं होती और वो कहानी को लेकर कन्फ़्यूज़ नहीं होते.

लव स्टोरी और सस्पेंस

फ़िल्म के कई दृश्य बेहतरीन बन पड़े हैं. जैसे जब रेलवे प्लेफ़ॉर्म पर खड़ा गुरु (सिद्धार्थ मल्होत्रा), ट्रेन में बैठी आयशा (श्रद्धा कपूर) से ना जाने की गुज़ारिश करता है.

(रिव्यू:'फ़गली')

इसी तरह से रितेश देशमुख और सिद्धार्थ मल्होत्रा के बीच के कुछ सीन बड़े दिलचस्प हैं.

फ़िल्म लवस्टोरी होने के साथ-साथ एक सस्पेंस थ्रिलर भी है. साथ ही इसमें एक मनोरंजक फ़िल्म के भी सभी तत्व मौजूद हैं.

मिलाप झावेरी के लिखे संवाद भी कमाल के हैं. फ़िल्म का स्क्रीनप्ले ख़ासतौर से इतना कमाल का है कि दर्शक एक सेकंड के लिए भी पर्दे से आंख हटा नहीं पाएंगे.

अभिनय

इमेज कॉपीरइट Ek Villain

सिद्धार्थ मल्होत्रा ने अपने किरदार में कमाल कर दिया है. वो बड़े आकर्षक लगे हैं और उनकी स्क्रीन प्रज़ेंस भी ज़बरदस्त है.

एक्शन दृश्यों में वो बेहतरीन रहे हैं और पूरी फ़िल्म में बड़े सहज लगे हैं. वो निश्चित तौर पर लंबी रेस के घोड़े साबित होंगे.

(रिव्यू: 'फ़िल्मिस्तान')

श्रद्धा कपूर ने एक बार फिर कमाल किया है. वो अपने रोल की मांग के अनुसार बड़ी मासूम लगी हैं और उन्होंने बड़ी स्वाभाविक एक्टिंग भी की है.

रितेश देशमुख और उनकी पत्नी के रोल में आमना शरीफ़ भी बेहतरीन हैं. अंडरवर्ल्ड डॉन के किरदार में रेमो फ़र्नांडिस भी बहुत जमे हैं

मोहित सूरी का निर्देशन शानदार है. उन्होंने एक ज़बरदस्त मनोरंजक फ़िल्म बनाई है.

फ़िल्म में सिर्फ़ एक कमी है. इसमें भयानक हिंसा है जो हो सकता है कि महिलाओं को पसंद ना आए. लेकिन कुल मिलाकर 'एक विलेन' हर तरह के दर्शको को लुभाने वाली फ़िल्म है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार