ये फ़गले, फ़गले क्या है...

दिलीप कुमार और वैजयंती माला इमेज कॉपीरइट Madhur Bhushan

हिन्दी फ़िल्म के एक गाने में गायिका पूछती है ' ये फ़गले, फ़गले क्या है?' और पुरुष गायक इसे सामाजिक संदर्भ से जोड़ते हुए कुछ अजब-ग़ज़ब शब्दों में इसका जवाब देता है.

लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि अगर 'ये फ़गले, फ़गले क्या है?' को पुरुष गाते और महिला की सुरीली आवाज़ में जवाब आता तो गाना कितना असरदायक होता.

सामाजिक नियम कहते हैं कि सवाल पूछना महिलाओं का काम है और जवाब देना पुरुषों का विशेषाधिकार. क्या होगा अगर हम इस भूमिका को बदल दें?

पढ़ें पूरी रिपोर्ट

इमेज कॉपीरइट Saira Bano

अगर सवाल पुरुष पूछे और जवाब महिला दे तो क्या होगा?

बॉलीवुड का असर

बॉलीवुड न केवल हमारी जींस की लंबाई तय करता है, बल्कि यह भाषण भी देता है कि परिवार में किसे पैंट पहननी चाहिए और किसे नहीं.

इमेज कॉपीरइट Excel Entertainment

उसी तरह जैसे, एक फ़िल्म में मधुमती की भूमिका में वैजयंतीमाला को अपने प्रेमी आनंद (दिलीप कुमार) के लिए ' घड़ी-घड़ी मेरा दिल धड़के' गाने दिया गया, जबकि रौबदार दिलीप कुमार का विशेषाधिकार रहा कि वो अपने प्यार का इज़हार ' दिल तड़प तड़प के कह रहा है..' के अंदाज़ में करे. ये मान लिया गया कि संकोची स्वभाव की मधुमति को हीरो का प्यार स्वीकार करना ही होगा.

अब ' चुरा लिया है तुमने जो दिल को' गाने को याद कीजिए. इसमें बोल्ड मानी जाने वाली ज़ीनत अमान प्रेमी की भूमिका निभा रहे विजय अरोड़ा से अपने प्यार का इज़हार करती हैं और वो भी कई लोगों की मौजूदगी में. वह समाज के क़ायदे-क़ानूनों के ख़िलाफ़ चलीं.

समय बदला, किरदार भी

इमेज कॉपीरइट AFP

लेकिन समय बदला और इसके साथ किरदार भी. अब फ़िल्म में अभिनेत्री खुलकर अपने प्रेमी के प्रति अपने प्यार का इज़हार करती है, जैसा कि शाहरुख़ ख़ान अभिनीत फ़िल्म डॉन में करीना कपूर ने ' ये मेरा दिल' गाकर किया था.

2014 पर लौटते हैं. जब अक्षय कुमार (अरिजित सिंह की आवाज़) ' अश्क न हो' गाकर अपनी प्रेमिका सोनाक्षी सिन्हा के आंसू पोछते हैं और दुखी न होने को कहते हैं. अगर पहले के समय में इस स्थिति को फ़िल्माना होता तो यह हमेशा 'जिएं तो जिएं कैसे बिन आपके' जैसी होती.

इमेज कॉपीरइट Holiday

इस गाने में अक्षय सोनाक्षी से कहते हैं, "मुझे अपने नज़दीक पाने के लिए सोते वक़्त तकिए के नीचे मेरे ख़त रख लेना." तो क्या सिर्फ़ मुझे ही लग रहा है कि यह गाना भी आपको पुराने सामाजिक ढर्रे पर ले गया या आप भी ऐसा समझते हैं?

सोनाक्षी भी तो अपने रौबीले सेना के जवान से कह सकती है कि जब सीमा पर घर से दूर उसे उसकी (सोनाक्षी) की याद आए तो सोते समय तकिए के नीचे उसके लव लेटर्स रख दे. और मुझे उम्मीद है वो दिन बहुत दूर नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)