पत्रकारों को बेइज़्ज़त किया अरशद वारसी ने

अरशद वारसी इमेज कॉपीरइट AFP

अरशद वारसी ने अपनी आने वाली फ़िल्म 'वेलकम टू कराची' के पत्रकार सम्मलेन में मज़ाक की सीमा लांघते हुए मीडियाकर्मियों के साथ काफ़ी बदतमीज़ी की.

हालांकि इसके बाद अरशद ने ट्वीट कर कहा है, "आज मैंने अपने सेंस ऑफ़ ह्यूमर से दो पत्रकारों का दिल दुखा दिया...लगता है मुझे मेरा ह्यूमरस साइड अपने दोस्तों तक ही रखना होगा."

अरशद वारसी ने अपनी बदतमीज़ी की शुरुआत एक महिला पत्रकार से की, जब उन्होंने फ़िल्म प्रोमो में इस्तेमाल हुए अभद्र भाषा का कारण पूछा.

अरशद ने कहा "हम हिमालय गए थे और कुछ घंटे में तय हुआ कि ऐसा किया जाना है... ये बेवक़ूफ़ाना सवाल है, अगला प्रश्न".

खिंचाई

इसके बाद एक नए पत्रकार ने प्रश्न करते समय फ़िल्म को 'फिलिम' कह दिया तो अरशद ने कहा "ये फिलिम क्या होता है भाई."

जब उस पत्रकार ने अपने शब्द के ग़लत उच्चारण का कारण मुंह के छाले को बताया तो अरशद ने कहा "मेरा भी गला ख़राब है और आपका दिमाग ख़राब है."

अरशद ने हद तब पार कर दी जब उनसे इरफ़ान ख़ान के बारे में पूछा गया.

इरफ़ान पहले इस फ़िल्म का हिस्सा थे, पर तारीखों के चलते उन्हें फ़िल्म छोड़नी पड़ी और अब यह क़िरदार जैकी भगनानी निभा रहे हैं.

अभद्र भाषा

इस सवाल पर अरशद वारसी ने दख़ल देते हुए कहा "मैं एक चीज़ साफ़ साफ़ कह देना चाहता हूं कि मुंबई मिरर में जो मेरा इंटरव्यू आया है, उसमें मैंने कभी नहीं कहा कि इरफ़ान एक बेहतर चॉइस होता या इरफ़ान फ़िल्म में होना चाहिए था."

"मैंने कहा था कि इरफान अलग अभिनेता है और जैकी ने फ़िल्म को नया रूप दिया. मैंने ये भी नहीं कहा कि लॉरेन गट्टिलेब फ़िल्म की हीरोइन नहीं है."

बॉलीवुड के कई अभिनेता और अभिनेत्रियां हाल ही में मीडियाकर्मियों के साथ बदतमीज़ी करते आए हैं.

इस ट्रेंड में अरशद वारसी के अलावा जिस अभिनेता का नाम जुड़ा है वो हैं जया बच्चन, विक्रमादित्य मोटवानी, अनुराग कश्यप, सलमान ख़ान इत्यादि.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार