अब मांझे पर लगी पाबंदी

मांझे पर बैन इमेज कॉपीरइट Getty

महाराष्ट्र में बीफ़, मराठी फ़िल्मों के समय, शादी के बैंड के बाद अब एक और प्रतिबंध सामने आ रहा है.

महाराष्ट्र सरकार ने पतंग उड़ाने के काम में आने वाले मांझे के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा दिया है. मांझे पर लगाया गया ये प्रतिबंध जानवरों के अधिकारों के लिए काम करने वाली एक संस्था के कहने पर लगाया गया.

ये प्रतिबंध बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर शाखा में पीपल फॉर एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ अनिमल (पेटा) द्वारा लगाई गयी एक अर्ज़ी के जवाब में था.

इमेज कॉपीरइट Getty

पेटा ने एक प्रेस रिलीस जारी कर बताया कि उनकी अर्ज़ी पर हुई सुनवाई में ये बैन सामने आया है.

प्रेस रिलीज़ के अनुसार, "हम महाराष्ट्र सरकार के इस कदम का स्वागत करते है जो कि ना सिर्फ़ पक्षियों को धारदार धागे से बचाएगा बल्कि इंसानों के लिए भी ये जानलेवा हो सकता था, माँझा जो की नायलोन से बनता है. जिसमें प्लास्टिक पदार्थ होते हैं. वातावरण के लिए भी हानिकारक होता है, सभी दुकानदारों को जो पतंग और माँझे की बिक्री करते है, उन्हें पहले से सूचित कर दिया जाएगा कि वे माँझे की सामग्री अपनी दुकान मे ना रखें."

इमेज कॉपीरइट Reuters

अपने प्रेस नोट में मांझे के दुष्प्रभाव गिनाते हुए पेटा ने यह भी कहा कि नायलोन से बने इस माँझे का बिजली के तारों से टकराने पर भी बिजली कटने की संभावनाएं होती हैं ऐसे में ये एक बड़ा खतरा हैं.

अगर इस नियम पर कोई स्टे ऑर्डर नहीं आता है तो महाराष्ट्र में रहने वाले पतंग के शौकीनों को शायद इस बार बिना पेंच लड़ाए ही मन भरना पड़ेगा. हालांकि राज्य पुलिस ने ऐसे किसी प्रतिबंध की जानकारी न होने का हवाला दिया है और अभी उन्हें ऑर्डर आने का इंतज़ार है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार