किसके इशारों पर नाचे सलमान ख़ुर्शीद?

सलमान ख़ुर्शीद और एलसि शटाइनर इमेज कॉपीरइट youtube

बॉलीवुड की लोकप्रियता वाले जर्मनी में ये वीडियो भारत और जर्मनी में फ़िल्म जगत के प्रति लगाव को दर्शाने का एक ज़रिया है.

'कल हो न हो' के ट्रैक पर तैयार किए गए इस वीडियो को आए हुए अभी दो ही दिन हुए हैं और ये चर्चा का विषय बन गया है.

इस वीडियो में शाहरुख़ ख़ान का किरदार भारत में जर्मनी के राजदूत माइकल शटाइनर ने, प्रीति ज़िंटा का किरदार उनकी पत्नी एलसि शटाइनर ने निभाया है. सैफ़ अली ख़ान के किरदार में हैं भारत के पूर्व विदेश मंत्री सलमान ख़ुर्शीद.

वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

इस वीडियो की कुछ रोचक बातें हमें बताई निर्देशक सुमित शॉ ने.

'लेबे येट्ज़'

इमेज कॉपीरइट Sumit Osmand Shaw

शाहरुख़ ख़ान के यूं तो कई गाने हैं पर उनमें से सिर्फ़ इसी गाने को ही क्यों चुना गया?

इस पर सुमित ने बताया, "कल हो न हो को चुनने का सबसे बड़ा कारण ये था कि इसी गाने पर जर्मन विद्यार्थियों ने एक पेरोडी बनाई थी जो कि काफ़ी प्रचलित हुई. तो आईडिया यही था कि इसी गाने को लेकर कुछ किया जाए और इसे बेहतर बनाया जाए."

उन्होंने आगे कहा, "मुझे इस गाने के गायक सोनू निगम और लेखक जावेद अख्तर ने बताया कि ये गाना कालजयी गाना है और एक सर्वेक्षण के अनुसार साल 1930 से लेकर अब तक जितने भी गाने हैं उनमें ये गाना नंबर तीन पर है."

सलमान ख़ुर्शीद

इमेज कॉपीरइट AFP

सलमान ख़ुर्शीद का नाम भारत में जर्मनी के राजदूत माइकल शटाइनर ने सुझाया.

सुमित ने बताया, "हमें किसी ऐसे शक़्स की तलाश थी जो कि अभिनेता न हो पर किसी मंत्रालय से जुड़ा हो. चूँकि सलमान ख़ुर्शीद माइकल शटाइनर के पुराने मित्र हैं तो उन्होंने उनका नाम सुझाया. जब मैंने सलमान ख़ुर्शीद के साथ बैठकर उन्हें ये बताया कि उन्हें सैफ़ अली ख़ान का किरदार निभाना है तो वो थोड़े से घबराए और शर्माए."

"हमने फिर इस गाने का एक अलग एडिटेड वर्शन बनाया जिसमें सिर्फ़ सैफ़ अली ख़ान और प्रीति ज़िंटा का रोल था. उसके बाद सलमान ख़ुर्शीद ने उन्हें काफ़ी बार दोहराया और बहुत बार उसका अभ्यास किया फिर जाकर ये वीडियो बना."

एलसि शटाइनर

इमेज कॉपीरइट youtube

गाने में जर्मनी के राजदूत माइकल शटाइनर के साथ उनकी पत्नी एलसि शटाइनर भी हैं. जहाँ माइकल ने शाहरुख़ ख़ान के हाव भाव को बेहतरीन तरीक़े से कॉपी किया है वहीँ उनकी पत्नी एलसि शटाइनर ने भी बहुत बेहतरीन डांस किया है.

तो हिंदी सीखने से डांस तक क्या क्या मुश्किलें इन दोनों के सामने आई?

सुमित ने बताया, "एलसि हिंदी सीखती हैं और उर्दू सीखती हैं और वो इसकी बाक़ायदा ट्यूशन लेती हैं. तो हाव भाव व्यक्त करने में हमें ज़्यादा मशक्क़त नहीं करनी पड़ी. उनके पति माइकल तो बहुत ही मेहनती हैं. वो जर्मन भाषा में गाने के बोल लिखकर सुबह शाम उन्हेँ याद करते रहते थे."

इमेज कॉपीरइट Sumit Osmand Shaw

"पहले लिप-सिंक यानी गाने के बोल को गाना, फिर हाव भाव और फिर डांस. इन सबके पीछे बहुत मेहनत हुई."

उन्होंने आगे कहा, "वेस्टर्न डांस तो बहुत आसानी से एलसि ने कर लिया लेकिन जहां भारतीय नृत्य की बात आती थी तो हमनें एक डांस ग्रुप का सहारा लिया जो एलसि को ये डांस सिखाता था."

जल्द ही एक वीडियो यूट्यूब पर आएगा जिसमें इस गाने को बनाने की प्रक्रिया दिखाई जाएगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार