दादा साहेब फाल्के की अनदेखी तस्वीरें

दादा साहब फाल्के इमेज कॉपीरइट Sushant Mohan

भारतीय सिनेमा के जनक कहे जाने वाले दादा साहेब फाल्के की आज 145वीं जयंती पर बीबीसी हिंदी लाया है उनकी कुछ तस्वीरों और उनसे जुड़ी कुछ बातों का संकंलन आपके लिए.

दादा साहेब फाल्के का पूरा नाम धुंडिराज गोविंद फाल्के था.

हाल ही में मुंबई की एक सरकारी इमारत पर उनका चित्र बनाया गया जिसका लोकार्पण अमिताभ बच्चन ने किया था.

इमेज कॉपीरइट chandrakant pusalkar

दादा साहेब फाल्के ने अंतिम बार फ़िल्म बनाने की इच्छा ज़ाहिर की थी साल 1944 में. वो फ़िल्म बनाने की इजाज़त नहीं मिली और इनकार के उस एक ख़त के बाद फाल्के जीवित नहीं रहे.

उनके जन्मदिवस के मौक़े पर बीबीसी से ये दुर्लभ तस्वीरें साझा की उनके नाती चंद्रशेखर पुसालकर ने. आज यानी 30 अप्रैल के दिन ही उनका जन्म हुआ था.

चंद्रशेखर पुसालकर ने बताया , ‘‘अंतिम बरसों में दादा साहेब अल्ज़ाइमर से जूझ रहे थे. लेकिन उनके बेटे प्रभाकर ने उनसे कहा कि चलिए नई तकनीक से कोई नई फ़िल्म बनाते हैं. उस समय ब्रिटिश राज था और फ़िल्म निर्माण के लिए लाइसेंस लेना पड़ता था. जनवरी 1944 में दादा साहेब ने लाइसेंस के लिए चिट्ठी लिखी. 14 फ़रवरी 1946 को जवाब आया कि आपको फ़िल्म बनाने की इजाज़त नहीं मिल सकती. उस दिन उन्हें ऐसा सदमा लगा कि दो दिन के भीतर ही वो चल बसे.’’

इमेज कॉपीरइट chandrakant pusalkar

चंद्रशेखर बताते हैं कि फाल्के लंदन से फ़िल्म बनाने की तकनीक तो सीख आए लेकिन पहली फ़ीचर फ़िल्म राजा हरिश्चंद्र बनाना अपने आप में एक बड़ा संघर्ष था. फाल्के की पत्नी सरस्वती बाई ने अपने गहने गिरवी रखकर पैसे जुटाने में मदद की.

इमेज कॉपीरइट chandrakant pusalkar

पुरूष अभिनेता भी मिल गए लेकिन तारामती का किरदार निभाने के लिए कोई अभिनेत्री नहीं मिल रही थी.

चंद्रशेखर बताते हैं, "दादा साहेब मुंबई के रेड लाइट एरिया में भी गए. वहां पर औरतों ने उनसे पूछा कि कितने पैसे मिलेंगे. उनका जवाब सुनकर उन्होंने कहा कि जितने आप दे रहे हो उतने तो हम एक रात में कमाते हैं. एक दिन वो होटल में चाय पी रहे थे तो वहां काम करने वाले एक गोरे-पतले लड़के को देखकर उन्होंने सोचा कि इसे लड़की का किरदार दिया जा सकता है. उसका नाम सालुंके था . फिर उसने तारामती का किरदार निभाया.''

इमेज कॉपीरइट chandrakant pusalkar

दादा साहेब फाल्के ने सिनेमा की शुरुआत कर भारत में एक क्रांति की थी और शुरु में उन्होंने बहुत समृद्धि का दौर देखा. कहते हैं कि उनके घर के कपड़े पेरिस से धुल कर आते थे और पैसे से लदी बैलगाड़ियाँ उनके घर आया करती थीं. हालांकि नाती चंद्रशेखर पुसालकर इन बातों पर मुस्कुरा भर देते हैं.

इमेज कॉपीरइट Chandrakant pusalkar

उन्होंने क्रिसमस के अवसर पर ‘ईसामसीह’ पर बनी एक फिल्म देखी और फिल्म देखने के दौरान ही निर्णय कर लिया कि उनकी जिंदगी का मकसद फिल्मकार बनना है.

उन्हें लगा कि रामायण और महाभारत जैसे पौराणिक महाकाव्यों से फिल्मों के लिए अच्छी कहानियां मिलेंगी और उनके पास सभी तरह का हुनर था ही, वह नए-नए प्रयोग करते थे, प्रशिक्षण का लाभ उठाकर और अपनी प्रकृति के चलते प्रथम भारतीय चलचित्र बनाने का असंभव कार्य करनेवाले वह पहले व्यक्ति बने.

इमेज कॉपीरइट chandrakant pusalkar

उन्होंने 5 पाउंड में एक कैमरा खरीदा और शहर के सभी सिनेमाघरों में जाकर फिल्मों का अध्ययन और विश्लेषण किया. फिर दिन में 20 घंटे लगकर प्रयोग किए.

ऐसे काम करने का प्रभाव उनकी सेहत पर पड़ा. उनकी एक आंख जाती रही लेकिन ऐसे कठिन समय में उनकी पत्नी सरस्वती बाई ने उनका साथ दिया और सामाजिक निष्कासन और सामाजिक गुस्से को चुनौती देते हुए उन्होंने अपने जेवर गिरवी रख दिए.

इमेज कॉपीरइट vhandrakant pusalkar

शुरू में शूटिंग दादर के एक स्टूडियो में सेट बनाकर की गई और सभी शूटिंग दिन की रोशनी में की गई क्योंकि वह एक्सपोज्ड फुटेज को रात में डेवलप करते थे और प्रिंट करते थे (अपनी पत्नी की सहायता से).

छह माह में 3700 फीट की लंबी फिल्म तैयार हुई. 21 अप्रैल 1913 को ओलम्पिया सिनेमा हॉल में यह रिलीज़ की गई. दर्शकों ने ही नहीं, बल्कि प्रेस ने भी इसकी उपेक्षा की लेकिन फालके जानते थे कि वे आम जनता के लिए अपनी फिल्म बना रहे हैं, अतः यह फिल्म ज़बरदस्त हिट रही.

इमेज कॉपीरइट chandrakant pusalkar

फालके के फिल्म निर्माण के प्रयास और पहली फिल्म राजा हरिश्चंद्र के निर्माण पर मराठी में एक फीचर फिल्म 'हरिश्चंद्राची फॅक्टरी' 2001 में बनी, जिसे देश विदेश में सराहा गया.

पहली मूक फिल्म "राजा हरिश्चंन्द्र" के बाद दादासाहब ने दो और पौराणिक फिल्में "भस्मासुर मोहिनी" और "सावित्री" बनाई.

1915 में अपनी इन तीन फिल्मों के साथ दादासाहब विदेश चले गए. लंदन में इन फिल्मों की बहुत प्रशंसा हुई. कोल्हापुर नरेश के आग्रह पर 1938 में दादासाहब ने अपनी पहली और अंतिम बोलती फिल्म "गंगावतरण" बनाई.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार