गीता चंद्रनः नृत्य और संगीत की साधक

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

पद्मश्री गीता चंद्रन भरतनाट्यम का जाना-माना नाम है. गीता न सिर्फ शास्त्रीय नृत्य में पारंगत हैं, बल्कि कर्नाटक संगीत पर भी उनकी मज़बूत पकड़ है.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

विभिन्न कलाओं में माहिर गीता ने पांच वर्ष की छोटी उम्र से ही भरतनाट्यम का प्रशिक्षण लेना आरंभ कर दिया था.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN
Image caption संगीत के अभ्यास से अपने दिन की शुरुआत करती गीता चंद्रन.

उनकी पहली गुरु स्वर्णा सरस्वती थीं. उनकी दूसरी गुरु केएन दक्षिणामूर्ति ने उन्हें नृत्य सिखाया.

गीता जब आठ साल की थीं, तब उन्होंने मीरा शेषाद्रि से कर्नाटक संगीत सीखना शुरू किया.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN
Image caption गीता चंद्रन मानती हैं कि नृत्य और संगीत एक दूसरे के पूरक हैं.

उनका मानना है कि एक नृत्यांगना को संगीत का भी ज्ञान होना चाहिए.

गीता कहती हैं कि नृत्य और संगीत एक दूसरे के पूरक हैं इन्हें अलग-अलग करके नहीं देखा जा सकता.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN
Image caption गीता चंद्रन भरतनाट्यम परिधानों की प्रदर्शनी 'व्हेन द प्लीट्स डांस ' में.

गीता एक रुढ़िवादी तमिल ब्राह्मण परिवार से थीं, जहां शिक्षा को अत्यधिक महत्व दिया जाता था.

इसलिए उन्होंने नृत्य प्रशिक्षण व कर्नाटक संगीत की शिक्षा के साथ-साथ अपना शिक्षण भी जारी रखा.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

उन्होंने दिल्ली के लेडी श्रीराम कॉलेज से गणित में ऑनर्स किया और बाद में आईआईएमसी से एडवरटाइज़िंग की पढ़ाई की.

वो भरतनाट्यम को करियर के तौर पर नहीं देख रहीं थी, सो उन्होंने एक मीडिया कंपनी में नौकरी शुरू कर दी. बाद में उन्होंने खुद को शास्त्रीय नृत्य के लिए समर्पित कर दिया.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

गीता कहती हैं, "मैंने नृत्य और संगीत सीखा क्योंकि मुझे नृत्य और संगीत से प्रेम है और यह बचपन से मेरे जीवन का हिस्सा रहा है. इसे पूरी तरह करियर के रूप में अपनाना है, यह बहुत बाद में तय हुआ."

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

गीता शास्त्रीय नृत्य को एक कदम आगे ले गई हैं, कंटेम्पररी आर्ट फ़ॉर्म से जोड़ते हुए समाज में हो रहे अनैतिक अपराधों के ख़िलाफ़ अपना विरोध भी प्रकट करती हैं.

गीता ने 'सो मेनी जर्नीज़' नाम से एक किताब भी लिखी है.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN
Image caption व्यक्तित्व को गढ़ने, बनने, सँवरने में कई सालों की तपस्या लगती है.

वो कहती हैं, "भरतनाट्यम पर अब तक कई किताबें लिखी गई हैं. पर अब तक कोई भी ऐसी किताब नहीं हैं जिसमें फॉर्म्स को स्टेप्स में लिखा गया हो."

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN
Image caption गीता चंद्रन अपने पति राजीव चंद्रन, बेटी शरण्या चंद्रन व दामाद के साथ.

चंद्रन अपने छात्रों के लिए एक किताब लिखना चाहती थीं, जिससे उन्हें सीखने में मदद मिले.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

गीता की डांस कंपनी 'नाट्य वृक्ष' में लगभग 100 से अधिक छात्र भरतनाट्यम का प्रशिक्षण ले रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट PREETI MANN

गीता चंद्रन मानती हैं, "नृत्य सीखने के लिए उम्र कोई बाधा नहीं होती, अगर सच्ची लगन और अभ्यास किया जाए तो किसी भी उम्र में इस विधा में पारंगत हुआ जा सकता है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार