ये हैं कुछ अनोखे बिज़नेस

इमेज कॉपीरइट Ayush

इस भागती-दौड़ती ज़िन्दगी में क्या आपने कभी सोचा है कि काश आपके निजी काम कोई और कर दे.

ऐसे में लोगों की ज़िंदगी को आसान बनाने के लिए कुछ नए लेकिन अनोखे बिज़नेस सामने आ रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट get my peon

बीबीसी हिंदी ने कुछ ऐसे ही अनोखे और नए बिज़नेस मॉडल्स पर नज़र डाली जिन्हें शायद आज से कुछ साल पहले सोचा भी नहीं जा सकता था.

'गेट माई पीओन'

इमेज कॉपीरइट get my peon

इस वेबसाइट के स्टाफ़ आपके रोज़मर्रा के काम जैसे कि बिजली का बिल भरना या किराने का सामान घर पहुंचाना इत्यादि, कर देते हैं. यह वे काम हैं जिनके लिए आपको अपनी व्यस्त दिनचर्या से अलग समय निकालना पड़ता है. 30 वर्षीय भरत अहिरवार के बिज़नेस आइडिया ने इस परेशानी का हल ढूंढ लिया है. वे कहते है, "ये भारत की पहली ऐसी कंपनी है जो आपके रोज़ के कामों के लिए एक आदमी उपलब्ध करवाती है फिर चाहे किसी के लिए तोहफ़ा पंहुचाना हो या फिर आपके घर में छूटा कोई दस्तावेज़ आपके दफ़्तर ले जाना हो- हम वह काम उसी दिन दिए गए समय में पूरा करते हैं."

इमेज कॉपीरइट Ayush

साल 2013 में मुंबई से अपनी कंपनी की शुरूआत करने वाले भरत कहते हैं, "शुरुआत के दिनों में एक महीने हम केवल 35 से 40 ऑर्डर लिया करते थे लेकिन आज तीन साल बाद हम एक दिन मे 200 से 250 ऑडर्स पूरे करते हैं. आज हम डेढ़ करोड़ रूपए के टर्नओवर वाली कंपनी बन चुके है."

'सीक शेरपा'

इमेज कॉपीरइट seek sher pa

अगर आप किसी नए शहर जा रहे हैं और आपको किसी स्थानीय निवासी के साथ शहर घूमने का मौक़ा मिले तो यह एक अलग अनुभव होगा.

इसी थीम पर साल 2014 में दिल्ली में ध्रुव राज आनंद ने 'सीक शेर-पा' नाम से एक 'टूर गाइड' वेबसाइट और मोबाईल ऐप शुरू की.

इमेज कॉपीरइट Dhruv seek sher pa

ध्रुव के मुताबिक़, "हमारे टूर गाइड, पर्यटकों को ऐसे माइक्रो टूर करवाते हैं जो सामान्य टूर गाइड शायद नहीं करवा सकते क्योकिं इस ऐप में हम ऐसे लोगों को उपलब्ध कराते हैं जो शहर के स्थानीय निवासी हैं जिन्हें उस जगह की विस्तार में जानकारी होती है." हालांकि टूर गाइड और पर्यटकों का पुलिस वेरिफ़िकेशन और उनकी सुरक्षा का सवाल इस बिज़नेस के साथ जुड़ा हुआ है.

इमेज कॉपीरइट seek sher pa

50 लाख़ के निवेश पर बनी यह कंपनी दिल्ली, मुंबई और कोलकाता के बाद अब भारत के 15 और शहरों में अपना काम शुरु करने वाली है.

'मटरफ़्लाई'

इमेज कॉपीरइट Akshay bhatia

24 वर्षीय अक्षय भाटिया लंदन में 'मॉर्गन स्टैनली' नाम की कंपनी में काम किया करते थे जब उन्हें 'मटरफ़्लाई' मोबाइल ऐप बनाने का ख़्याल आया.

अपनी नौकरी छोड़ स्वदेश लौटे अक्षय ने 'फ़ूड शेरिंग प्लेटफॉर्म' के आधार पर यह ऐप बनाई जहां आप अपना खाना अपने पड़ोसी के साथ स्वेच्छा से बांट सकते हैं.

अक्षय कहते हैं, "लंदन में मैंने घर से बाहर रह रहे लोगों, ख़ासकर अकेले युवाओं को अच्छे खाने के लिए तरसते देखा और यहीं से इस ऐप का विचार मुझे मिला."

वो कहते हैं, "हमारे ऐप के ज़रिए आप अपने आसपास ऐसे लोगों के बारे में जान सकते हैं जो आपके साथ खाना बांटने को तैयार हैं. इसके लिए हम कोई चार्ज नहीं करते लेकिन यूज़र चार्ज़ कर सकता है."

न्यूयॉर्क से भारत काम करने आई श्रेया ने इस ऐप का इस्तेमाल किया है और वो बताती हैं कि इस ऐप के ज़रिए कई बार उन्होंने आस-पड़ोस के घरों में बन रहे खाने का ज़ायक़ा लिया है.

इमेज कॉपीरइट Ayush

लेकिन यह ज़रूरी नहीं कि इस ऐप से आप हमेशा लज़ीज़ खाना ही खा पाएंगे, कई बार खाने की तलाश में लोग ऐसे घरों में भी पहुंचे हैं जहां खाना किसी सड़क किनारे के ढाबे से भी बुरा था.

इस पर 'मटरफ़्लाई' के संस्थापक अक्षय हंसते हुए कहते हैं, "इसलिए ही हम लोगों से चार्ज नहीं करते क्योंकि हम हर घर के खाने की क्वालिटी पर नज़र नहीं रख सकते, खाने को लेकर आपको ही सावधान रहना होगा."

इमेज कॉपीरइट akshay bhatia

फ़िलहाल इस ऐप में एक लाख रूपए लगा चुके अक्षय इसके डेटाबेस को बड़ा करने में जुटे हुए हैं और क्योंकि मामला खान पान से जुड़ा है तो उन्हें कई सरकारी संस्थाओं से इसके लिए मंज़ूरी लेनी पड़ रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार