25 लाख का नाटक

इमेज कॉपीरइट code mantra

हाल ही में मुंबई में शुरु हुए गुजराती नाटक 'कोड मंत्र' के निर्माताओं का दावा है कि यह नाटक गुजराती रंगमंच का सबसे मंहगा नाटक है.

इस नाटक का बजट कम से कम 25 लाख है. इसकी कहानी एक आर्मी कैम्प में घटी काल्पनिक घटनाओं और कोर्ट रूम ड्रामा को लेकर बुनी गई है.

इमेज कॉपीरइट code mantra

इस नाटक की कई बातें इसके बड़े बजट का कारण हैं जिनमें से एक है इसमें काम कर रहे कलाकारों की संख्या.

आम तौर पर एक नाटक में 6 से 7 पात्र होते हैं लेकिन इस नाटक में 35 कलाकार मंच पर आते हैं.

3 मुंबई बटालियन के 16 कैडेट्स भी इस नाटक का हिस्सा हैं और यही वजह है कि ड्रिल, सलामी से लेकर उनकी बॉडी लैंग्वेज में वास्तविकता है.

इमेज कॉपीरइट code matntra

यह कैडेट्स इस नाटक की सबसे ख़ास बात हैं क्योंकि इनके आ जाने से आर्मी कैम्प का माहौल हूबहू खड़ा हो जाता है.

वैसे तो नाटकों में 'बॉक्स सेट' लगते हैं जिन्हें जल्दी बदला नहीं जाता लेकिन सेट निर्माता प्रसाद वालावलकर ने इस नाटक में ऐसे 'फ़्लैप्स सेट' बनाए हैं जिन्हें मोड़कर 11 अलग स्थानों की शक्ल में बदला जा सकता है.

इतने भारी भरकम बजट पर बने इस नाटक का संगीत भी फ़िल्म संगीत देने वाली संगीतकार जोड़ी सचिन जिगर ने दिया है.

इमेज कॉपीरइट code mantra

अब तक टीवी में व्यस्त रहे निर्देशक राजू जोशी ने आठ साल बाद नाट्य निर्देशन किया है और उन्होंने बताया, "स्क्रिप्ट मुझे बहुत एक्साइटिंग लगी, इसका मंचन करने से पहले उस पर सात महीने तक काम किया क्योंकि मुझे लगा कि यह नाटक वास्तविकता से जितना करीब होगा उतना बेहतर होगा."

इमेज कॉपीरइट code mantra

इस नाटक के कॉस्ट्यूम्स दिल्ली और कोलाबा के आर्मी बैरेक्स के कारीगरों से बनवाए गए हैं वहीं जूते, राइफ़ल्स, हैल्मेट्स, मशीनगन्स आदि ख़ास तौर से बनवाए गए हैं.

इमेज कॉपीरइट code mantra

नाटक की लेखिका और मुख्य अभिनेत्री स्नेहा देसाई कहती हैं, "लेखक के तौर पर कोर्ट रुम ड्रामा लिखना मुश्किल है क्योंकि लेखक को पता होता है कि अंत में कौन जीतेगा लेकिन यह दोहरी शतरंज का खेल है."

इस नाटक में आर्मी में गुजराती समुदाय से किए जाने वाले भेदभाव और मानवाधिकार के मुद्दे पर सवाल उठाए गए हैं.

इमेज कॉपीरइट code mantra

नाटक के मुख्य निर्माता भरत ठक्कर ने बताया, "गुजराती रंगमंच में नया करने के प्रयास में मैंने कोई कसर नहीं छोड़ी. और यह नाटक मुश्किल तो था लेकिन असंभव नहीं."

बजट के सवाल पर वह कहते हैं कि ये वास्तविकता लाने के लिए ज़रूरी था,"मैंने बजट की फ़िक्र की होती तो शायद कोड मंत्र कभी नहीं बनता."

इमेज कॉपीरइट code mantra

वकील के रूप में स्नेहा देसाई का अभिनय अच्छा है वहीं अभिनेता प्रताप सचदेव ने कठोर कर्नल की भूमिका को बख़ूबी निभाया है.

कर्तव्य पालन की सीमा पार होने पर क्या अंजाम हो सकता है यह दिखाने वाला यह नाटक अंत तक दर्शकों को बांधे रखता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार