'मेरी फ़िल्म सेंसर बोर्ड में गई तो हंगामा पक्का'

बॉलीवुड अभिनेता इमरान हाशमी का मानना है कि सेंसर बोर्ड फ़िल्मों को आगे ले जाने की बजाए 'अंधकार युग' की ओर ले जा रहा है.

इमरान ने अपनी आने वाली फ़िल्म 'मैं रहूं या ना रहूं' के एक समारोह के दौरान सेंसर बोर्ड के प्रति नाराज़गी जताई.

कुछ दिनों पहले 'जेम्स बॉन्ड' सीरीज़ की फ़िल्म 'स्पेक्टर' में किसिंग सीन को छोटा करने के सेंसर बोर्ड के आदेश की काफ़ी आलोचना हुई थी.

इस मसले पर पत्रकारों के सवाल पर इमरान ने कहा, "बहुत लोगों की तरह मुझे भी लगता है कि हमें 'अंधकार युग' की ओर ले जाया जा रहा है."

इमरान आगे बोले, "सबका यही मानना है कि बिना किसी तुक के सेंसर बोर्ड ने वह सीन काटा है. अगर नियमों के अनुसार उस फ़िल्म को 'ए' सर्टिफ़िकेट मिलना चाहिए तो आप दे दीजिए."

फ़िलहाल इमरान अपनी आने वाली फ़िल्म 'मैं रहूं या ना रहूं' में व्यस्त हैं. इसके बाद उनकी फ़िल्म 'अज़हर' रिलीज़ होगी.

इमरान अपनी आने वाली फ़िल्मों में किसिंग सीन पर कहते हैं, "मुझे नहीं मालूम जब मेरी फ़िल्म सेंसर बोर्ड के पास जाएगी तो क्या होगा. लेकिन इतना ज़रूर जानता हूं कि जाने के बाद विवाद ज़रूर शुरू होगा."

वे कहते हैं, "एक तरफ टेलीविज़न आगे बढ़ रहा है और दूसरी तरफ़ आप (सेंसर बोर्ड) फ़िल्मों को पीछे ले जा रहे हैं."

इमेज कॉपीरइट dharma productions

इमरान का यह भी मानना है कि सेंसर बोर्ड को भी नियमों का पालन करना पड़ता है और उम्मीद जताते हैं कि आने वाले दिनों में उन नियमों में बदलाव दिखेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार