2015 में जब बुरे फंसे फ़िल्मी सितारे

इस बात को कहने में कोई हिचक नहीं होनी चाहिए कि साल 2015 बॉलीवुड के लिए विवादों का साल रहा.

साल की शुरुआत में जहां सेंसर बोर्ड, एआईबी, बाबा राम रहीम और 'पीके' को लेकर विवाद हुआ तो दूसरी तरफ़ सलमान ख़ान, एफ़टीआईआई, संजय दत्त का पैरोल और 'असहिष्णुता' से जुड़े मुद्दों ने विवाद बरक़रार रखे.

एक नज़र, साल 2015 के ऐसे विवादों पर जो बॉलीवुड का दायरा पार कर कोर्ट कचहरी और पुलिस तक जा पहुंचे.

साल की शुरुआत में डेरा सच्चा सौदा के गुरमीत सिंह राम रहीम की फ़िल्म 'एमएसजी' को लेकर विवाद हुआ और इस फ़िल्म की रिलीज़ के चलते रातोंरात पूरा सेंसर बोर्ड ही बदल गया. फ़िल्म की रिलीज़ पर पंजाब और हरियाणा में रोक लगी.

साल 2015 में सेंसर बोर्ड ख़ूब छाया रहा. पहलाज निहलानी की अध्यक्षता में नई बोर्ड कमिटी बनी और इसके फ़ैसलों का शुरुआत से ही विरोध होना शुरू हो गया, चाहे वो आपत्तिजनक शब्दों की लिस्ट बनाना हो या छोटे छोटे शब्दों पर फ़िल्म को सर्टिफ़िकेट न देना.

पहलाज और उनकी टीम को ख़ासी आलोचना झेलनी पड़ी. मज़ेदार बात ये है कि उन्होंने स्वीकार किया कि हॉलीवुड फ़िल्म जेम्स बांड में किसिंग सीन को आधा करने के आदेश देने से पहले उन्होनें फ़िल्म देखी भी नहीं थी.

इमेज कॉपीरइट Pahlaj NIhlani

पहलाज निहालानी की आलोचना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बनाए गए उनके वीडियो 'मेरा देश है महान, मेरा देश है जवान' के लिए भी हुई थी और लोगों ने उन्हें एक ख़ास राजनीतिक सोच का नुमाइंदा बताया.

अभिनेताओं के मामले में साल 2015 तीनों ख़ानों के लिए भारी था लेकिन अभिनेता सलमान ख़ान पर इस साल विवादों का साया सबसे ज़्यादा रहा.

सबसे पहले सलमान ख़ान को मुंबई की एक निचली अदालत ने 13 साल पुराने 'हिट एंड रन' मामले में सज़ा सुनाई लेकिन बाद में वो हाई कोर्ट से बरी हो गए.

सलमान पर अब भी जोधपुर में काले हिरण के शिकार का मामला चल रहा है और गिरफ़्तारी की तलवार लटकी है. इसके अलावा सलमान को सोशल मीडिया पर मुंबई बम विस्फोटों के दोषी याक़ूब मेमन पर किए गए अपने ट्वीट के बाद भी माफ़ी मांगनी पड़ी थी.

दूसरी तरफ़ शाहरुख़ और आमिर के लिए यह साल थोड़ा 'असिहष्णुता' भरा रहा.

शाहरुख़ के अपने 50वें जन्मदिन और आमिर के एक इवेंट के दौरान दिए गए 'असहिष्णुता' संबंधी बयान के बाद इन दोनों ही कलाकारों को विरोधियों ने जमकर घेरा.

जहां एक तरफ़ लोगों ने शाहरुख़ ख़ान की फ़िल्म 'दिलवाले' का बहिष्कार किया, वहीं आमिर के द्वारा प्रचारित किए जा रहे ब्रांड 'स्नैपडील' को आमिर के बयान की प्रतिक्रिया झेलनी पड़ी.

इमेज कॉपीरइट UTV

साल की शुरुआत में आमिर की उनकी फ़िल्म 'पीके' को लेकर भी आलोचना हुई लेकिन 'असहिष्णुता' वाले मामले ने ख़ासा विकराल रूप धारण कर लिया.

इसी मुद्दे पर दिबाकर बनर्जी और आनंद पटवर्धन जैसे कई फ़िल्मकारों ने अपने राष्ट्रीय पुरस्कार वापस किए.

साल का एक बड़ा और गंभीर विवाद रहा अभिनेता गजेंद्र चौहान की 'फ़िल्म एंड टेलिविज़न इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया' के चैयरमैन के तौर पर नियुक्ति.

इस घोषणा के विरोध में इंस्टिट्यूट के छात्रों ने हड़ताल कर दी. प्रदर्शन और छात्र गिरफ़्तारियों के बीच यह विवाद पुणे फ़िल्म इंस्टिट्यूट से जुड़ी फ़िल्मी हस्तियों के मन में ख़ासी कड़वी यादें छोड़ गया.

एफ़टीआईआई के पूर्व चैयरमैन और निर्माता निर्देशक श्याम बेनेगल ने कहा, "जब विद्या के मंदिर में पुलिस आ जाती है तो फिर मामला एक स्कूल कॉलेज का नहीं रह जाता, ये बहुत बुरा हो गया है."

छात्र गजेंद्र चौहान को अपने लिए नाक़ाबिल मान रहे थे, वहीं सरकार ने इसे अपनी नाक का मुद्दा बना लिया था और अंत में इस हड़ताल को बिना किसी हल के छात्रों ने ख़त्म कर दिया.

निर्देशक कबीर ख़ान की फ़िल्म 'फ़ैंटम' को पाकिस्तान में बैन कर दिया गया हालांकि कबीर ख़ान इस बैन के विरोध में पाकिस्तान की अदालतों में गए थे लेकिन फ़िल्म वहां रिलीज़ नहीं हो सकी.

दूसरी तरफ़, कबीर ख़ान की ही फ़िल्म 'बजरंगी भाईजान' में मुन्नी के किरदार जैसी कहानी वाली 'गीता' ने भी असल ज़िंदगी में ख़ासी सुर्खियां बटोरी और कबीर पर 'गीता' की कहानी चुरा कर फ़िल्म बनाने के आरोप लगाए गए.

अभिनेत्रियों में इस साल विवादों में रही दीपिका पादुकोण और सनी लियोन.

मुंबई के पास ठाणे की एक महिला ने सनी पर अश्लीलता फ़ैलाने के आरोप में एफ़आईआर दर्ज करवाई, वहीं दीपिका अपने एक प्रमोशन वीडियो 'माई च्वॉइस' को लेकर विवादों में आ गईं.

हालांकि दीपिका के ख़िलाफ़ दायर किए गए केस अदालत ने स्वीकार नहीं किए.

इमेज कॉपीरइट bbc

साल 2015 में कुछ उत्पादों का प्रचार करने वाले सितारों पर भी उंगली उठी.

इनमें प्रमुख थे 'मैगी' का प्रचार करने वाले अमिताभ बच्चन और माधुरी दीक्षित, जिन पर एफ़आईआर दर्ज की गई. उन पर आरोप था कि वो विज्ञापनों में भ्रामक तथ्यों का प्रचार कर रहे हैं.

ऐसा ही आरोप अभिनेता अजय देवगन पर लगा, जो एक पान मसाला उत्पाद का विज्ञापन करते हैं.

इस साल विवादों में 'थप्पड़' भी शामिल रहे. जहां एक फ़ैन को थप्पड़ मारने के आरोप में सुप्रीम कोर्ट ने अभिनेता गोविंदा को माफ़ी मांगने के लिए कहा, वहीं आदित्य पांचोली ने शूटिंग के दौरान फ़िल्म सेट पर एक सह कलाकार को थप्पड़ रसीद कर दिया.

लेकिन आदित्य पांचोली से ज़्यादा विवादित रहे इस साल अपनी फ़िल्मी डेब्यू करने वाले उनके बेटे सूरज पांचोली.

सूरज पर उनकी प्रेमिका जिया ख़ान को आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप है और सीबीआई की चार्जशीट के ब्यौरे से इस मामले में कई चौकाने वाले तथ्य सामने आए.

हालांकि सूरज को अभी गिरफ़्तार नहीं किया गया है लेकिन उनके ख़िलाफ़ मामला अदालत में चल रहा है.

इमेज कॉपीरइट AIB

इसके अलावा, अभिनेता संजय दत्त का पैरोल भी विवादों रहा और करण जौहर, रणवीर सिंह और अर्जुन कपूर समेत कॉमिक समूह 'एआईबी' के ख़िलाफ़ चल रहा अश्लीलता का मुद्दा भी एक विवाद है जिसे साल 2015 में ख़ासी हवा मिली.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार