संजय दत्त केस: कब क्या हुआ

इमेज कॉपीरइट crispy bollywood

12 मार्च 1993 में मुंबई में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों में अभिनेता संजय दत्त को 'टाडा' कोर्ट की ओर से सुनाई गई सज़ा गुरुवार को ख़त्म हो गई.

अवैध हथियार रखने और फिर उन्हें नष्ट करने के दोषी पाए गए संजय की कहानी 23 साल लंबी चली.

मामले की मुख्य तारीखों से आइए एक बार फिर गुज़रते हैं.

इमेज कॉपीरइट PTI

19 अप्रैल, 1993: मुंबई पुलिस ने संजय दत्त को गैरक़ानूनी ढंग से हथियार रखने के जुर्म में गिरफ़्तार किया. पुलिस ने उनके घर पर तलाशी के दौरान एक एके-56 रायफ़ल ज़ब्त की.

26 अप्रैल, 1993: संजय दत्त ने अपना जुर्म कबूला. 3 मई, 1993 को वे ज़मानत पर रिहा हुए.

इमेज कॉपीरइट Reuters

4 मई, 1994: अभिनेता संजय दत्त की ज़मानत रद्द. उन्हें दोबारा गिरफ़्तार किया गया.

16 अक्तूबर 1995: 16 महीने की सज़ा काटने के बाद संजय दत्त की ज़मानत मंज़ूर की गई.

इमेज कॉपीरइट hoture

दिसंबर, 1995: संजय दत्त को दोबारा गिरफ़्तार किया गया. वह अप्रैल 1997 में ज़मानत पर बाहर आए.

28 नवंबर, 2006: संजय दत्त 'आर्म्स ऐक्ट' के तहत दोषी पाए गए, लेकिन उन्हें 'टाडा एक्ट' से जुड़े सभी मामलो से बरी कर दिया गया.

31 जुलाई, 2007: 'टाडा' कोर्ट ने संजय दत्त को गैरक़ानूनी तरीक़े से हथियार रखने के जुर्म में छह साल की सज़ा सुनाई. मुंबई बम धमाकों से संबंधित सभी आरोपों से उन्हें बरी कर दिया गया.

2 अगस्त, 2007: संजय दत्त को गिरफ़्तार कर पुणे की यरवडा जेल भेजा गया.

20 अगस्त, 2007: संजय दत्त ने सज़ा के ख़िलाफ़ अर्ज़ी दी और उन्हें ज़मानत मिल गई. दो दिन बाद 22 अगस्त को ही उन्हें वापस जेल भेज दिया गया.

27 नवंबर, 2007: सुप्रीम कोर्ट ने संजय दत्त की ज़मानत याचिका मंज़ूर कर ली गई.

21 मार्च, 2013: सुप्रीम कोर्ट ने 'टाडा' कोर्ट का फ़ैसला बरक़रार रखते हुए संजय दत्त को सज़ा सुनाई, लेकिन सज़ा की अवधि कम कर उसे पांच साल कर दिया. इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने दत्त को चार हफ़्ते के भीतर समर्पण करने को कहा.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

28 मार्च, 2013: संजय दत्त ने अपने परिवार समेत मीडिया से बात की. कहा कि वे अपनी सज़ा के लिए माफ़ी की अर्ज़ी नहीं देंगे और हाईकोर्ट के फ़ैसले का सम्मान करते हुए सज़ा पूरी करेंगे.

17 अप्रैल, 2013: संजय दत्त ने अदालत से अपनी फ़िल्में पूरी करने के लिए वक़्त मांगा, जिसके लिए अदालत ने उन्हें चार हफ़्ते का समय दिया.

16 मई, 2013: संजय दत्त ने माफ़ी की याचिका वापस लेते हुए मुंबई पुलिस के सामने समर्पण कर दिया.

22 मई, 2013: संजय दत्त को पुणे की यरवडा जेल ले जाया गया. यहां उन्हें अपनी सज़ा के बाक़ी तीन साल और छह महीने बिताने थे.

25 फ़रवरी, 2016: गुरुवार को संजय दत्त अपनी सज़ा पूरी कर यरवडा जेल से रिहा हुए. वह वर्ष 2014 और 2015 में कुछ दिन की छुट्टी पर जेल से बाहर भी आए. दिसंबर 2014 में दो हफ़्ते और अगस्त 2015 में 30 दिन के लिए उन्हें छुट्टी मिली थी.

संजय दत्त की सज़ा मई 2016 में ख़त्म होने वाली थी पर उनका अच्छा व्यवहार देखते हुए इसे घटा दिया गया. अब वे 25 फरवरी, 2016 को रिहा हो गए

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)