बनारस में पूरा नहीं हो पाएगा आमिर का सपना

आमिर ख़ान इमेज कॉपीरइट SPICE

अपने 51वें जन्मदिन पर आमिर ख़ान ने अपनी आने वाली फ़िल्म दंगल की सफलता के बजाय मां के पुश्तैनी घर को ख़रीदने की इच्छा ज़ाहिर की.

लेकिन क्या आमिर की यह इच्छा पूरी हो पाएगी?

बीबीसी हिंदी ने बनारस में आमिर की मां के पुश्तैनी घर जाकर इस सवाल का जवाब ढूंढने की कोशिश की.

इमेज कॉपीरइट Roshan Jaiswal

बनारस के पिछले इलाक़े आदमपुरा के भारद्वाजी टोले के प्लॉट संख्या a14/10, a14/10a, a14/10b, a14/10c का मालिकान हक़ गुप्ता परिवार के पास है.

(दंगल की सफलता नहीं, मां के लिए मकान की चाहत)

यह वही जगह है जहां आमिर ख़ान की माताजी दस साल की उम्र होने तक रही थीं.

इस पांच बिस्वा (1360X5 फ़ीट) के ज़मीन के इस टुकड़े के अब छह मालिक हैं.

इमेज कॉपीरइट Roshan Jaiswal

इनमें से एक बद्रीनारायण गुप्ता ने बीबीसी को बताया कि उनके पिता चौकीराम गुप्ता 1947 में सरकारी नीलामी में यह मकान ख़रीदा या ज़मीन सरकारी नीलामी में ख़रीदी थी.

तब कुल ज़मीन छह बिस्वा थी जिसमें से एक बिस्वा चौकीराम गुप्ता के बच्चों ने बेच दिया था.

मिश्रित आबादी वाले इस इलाक़े में गुप्ता परिवार की इस प्रॉपर्टी में रहा मकान अब खंडहर हो चुका है और अब यहां कोई रहता नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Roshan Jaiswal

बद्रीनारायण यह भी बताते हैं कि 50 लाख बिसवा के हिसाब से अब इस ज़मीन की क़ीमत ढाई करोड़ रुपये है.

लेकिन आमिर की इच्छा के बारे में बात करने पर बद्रीनारायण कहते हैं कि इस ज़मीन को वे लोग बेचेंगे नहीं और यह पूरे परिवार का मत है. वह यह भी कहते हैं कि उनका इरादा इस ज़मीन पर मकान बनवाकर रहने का है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार