'साथ निभाना साथिया' दूसरे नंबर पर

इमेज कॉपीरइट AP

एशिया कप, टी-20 विश्व कप से क्रिकेट फ़ैंस के साथ-साथ इन्हें प्रसारित करने वाले चैनलों की भी चांदी हो गई है.

'नागिन', 'साथ निभाना साथिया' और 'कुमकुम भाग्य' को एक-एक पायदान नीचे खिसकाते हुए एंटरटेनमेंट चैनलों में दूरदर्शन ने पहला पायदान हासिल किया है.

वहीं स्पोर्ट्स चैनलों की दुनिया में 'स्टार स्पोर्ट्स 3' जहां हिंदी में कमेंट्री की जाती है, वो नंबर एक पर और 'स्टार स्पोर्ट्स 1' नंबर दो पर मौजूद है.

इमेज कॉपीरइट STAR PLUS

अगर क्रिकेट को छोड़ दें तो 'कुमकुम भाग्य' को पीछे छोड़कर स्टार का 'साथ निभाना साथिया' दूसरे नंबर पर है.

लेकिन यह भारत है और यहां क्रिकेट का जुनून एक तरफ़ और बाकी सब एक तरफ़.

स्टार स्पोर्ट्स ने अपने हिंदी चैनल पर कमेंट्री के लिए हाल ही में संन्यास लेने वाले पूर्व भारतीय क्रिकेट खिलाड़ियों वीरेंद्र सहवाग और ज़हीर ख़ान से क़रार किया है.

इमेज कॉपीरइट AFP

यह दोनों ही खिलाड़ी पहली बार कमेंट्री करते देखे जा रहे हैं और इनको अपने कमेंट्री पैनल में लाकर स्टार ने बड़ा दर्शक वर्ग अपनी ओर खींचा है.

लेकिन अपनी पहुँच और फ़्री-टू-एयर होने के चलते दूरदर्शन ही सबसे ज़्यादा देखा जाने वाला चैनल है और स्टार इस मामले में दूसरे नंबर पर है.

इमेज कॉपीरइट

खेल की ही बात चली है, तो खेलों में डब्ल्यूडब्ल्यूई की कुश्तियां भारत में ख़ासी लोकप्रिय हैं और टीवी पर ये काफ़ी दर्शक बटोरती हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty

डब्ल्यूडब्ल्यूई की लोकप्रियता का ही नतीजा है कि टेन स्पोर्ट्स से राइट्स लेकर 'ज़ी सिनेमा' पर भी ये कुश्तियां हिंदी में दिखाई जा रही हैं.

हालांकि ज़ी सिनेमा को इससे कोई ख़ास फ़ायदा टीआरपी में तो होता नहीं दिख रहा.

इमेज कॉपीरइट Colors TV

फ़िलहाल आने वाले हफ़्तों में तो स्पोर्ट्स चैनल ही टीआरपी की दौड़ में छाए रहेंगे, लेकिन दूसरे धारावाहिकों में सास बहू और नागिनें क्या कर रही हैं? यह हम आपको बताते रहेंगे.

(सभी तथ्य 'बार्क' के आंकड़ों पर आधारित, 'बार्क' टीआरपी एकत्रित करने वाली आधिकारिक एजेंसी है)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार