सूखा हर साल आता है, मीडिया इस साल पहुंचा!

इमेज कॉपीरइट Ayush deshpande

"सूखा हर साल आता है और हर साल लोग भी इन इलाकों से शहर की ओर आते हैं, लेकिन इस बार ख़बरें बहुत बन रही हैं."

मुंबई में सूखाग्रस्त किसानों के आसपास मीडिया को देखकर एक मुंबई निवासी की टिप्पणी.

मुंबई के पश्चिमी घाटकोपर में मौजूद एक मैदानी इलाक़े भातवाड़ी में महाराष्ट्र के सूखाग्रस्त इलाक़ों से आए कई परेशान परिवार पिछले तीन महीने से जमे हुए हैं.

इमेज कॉपीरइट Ayush Deshpande

600 से ज़्यादा की तादाद में मौजूद इन लोगों में अधिकतर किसान परिवार हैं या किसी तरह से खेती से जुड़े हैं.

ये नांदेड़, लातूर, वड़गांव जैसे इलाक़ों से यहां पलायन कर गए हैं क्योंकि इन इलाक़ों में भारी सूखा पड़ा है.

इमेज कॉपीरइट Ayush Deshpande

वड़गांव से आए 32 वर्षीय शेख हनीब, ज्वार की खेती करते हैं, पर सूखे की वजह से उनके खेतों में इस साल फ़सल नहीं आई.

इमेज कॉपीरइट Ayush Deshpande

वे कहते हैं, "हमारे गांव में हर वर्ष सूखा पड़ता है. इससे हमारी फ़सल पूरी तरह बर्बाद हो जाती है. ऐसे में खेतों में काम न होने से रोज़ी की तलाश में हमें मुंबई या पुणे जैसे शहरों में आना पड़ता है."

हनीब बताते हैं कि वह और उनके जैसे कई परिवार हर साल मुंबई आते हैं और बारिश शुरू होने के बाद अपने गांव लौट जाते हैं.

इमेज कॉपीरइट Ayush Deshpande

नांदेड़ से आई सुनिता सकाराम पिछले तीन महीने से मुंबई में हैं और दिहाड़ी पर मज़दूरी कर रही हैं.

अपने ज़िले के हालात बयां करते हुए वे कहती हैं, "पानी न होने से हमें खेतों में काम नहीं मिलता और इसके चलते घर में पैसे भी नहीं आते. अब खाना खाने के लिए पैसे तो लगते ही हैं. इसी वजह से हम सब यहां आ गए हैं."

इमेज कॉपीरइट Ayush Deshpande

इसी इलाक़े की बस्ती में रह रहे नीलेश मुंबई के ही हैं और उनके मुताबिक़ ये किसान हर साल यहां आते हैं.

"मैं पिछले आठ-नौ सालों से इन लोगों को यहां आते देख रहा हूँ और हर साल इनकी तादाद बढ़ती दिख रही है."

इमेज कॉपीरइट Ayush Deshpande

मुंबई के घाटकोपर इलाक़े में पानी की समस्या पर वे बताते हैं, "हमारे यहां भी पानी की काफ़ी समस्या है और अब हर गर्मियों में बाहर से आने वाले लोगों की वजह से पानी कम पड़ रहा है. यह सच है कि हमें भी पानी अब ख़रीदना पड़ रहा है."

इमेज कॉपीरइट Ayush Deshpande

मुंबई पुलिस और नगर निगम की मदद से यहां मौजूद लोगों को पानी और रहने की व्यवस्था कराई गई है पर बीतते दिनों के साथ जिस तरह इन किसानों की तादाद बढ़ रही है, उससे यह व्यवस्था नाकाफ़ी नज़र आती है.

इमेज कॉपीरइट Ayush Deshpande

घाटकोपर के डीसीपी विनय कुमार राठोड़ ने बीबीसी को बताया, "हम हर साल गर्मियों में ऐसे हालात के लिए तैयार रहते हैं क्योंकि ये किसान अपने ज़िले में सूखे के चलते हर साल यहां आते हैं और यह हमारा फ़र्ज़ है कि हम उनकी मदद करें."

इमेज कॉपीरइट Ayush Deshpande

हाल ही में मीडिया में कुछ स्थानीय लोगों द्वारा इन किसान परिवारों से हफ़्ता वसूली करने की घटनाओं की जानकारी भी उन्होंने दी.

विनय के अनुसार, "हमें कुछ समय पहले पता चला था कि किसानों को कुछ स्थानीय लोग परेशान कर रहे हैं और उनसे रहने का पैसा वसूल रहे हैं जो ग़ैरक़ानूनी है और ऐसी किसी भी हरकत पर हम सख़्ती से कार्रवाई कर रहे हैं."

किसानों के आने के बाद राजनीतिक दल भी कूद पड़े हैं और बीते दो दिन में वहां महाराष्ट्र के क़रीब हर दल का प्रतिनिधि किसानों की मदद करने पहुँच चुका है.

इमेज कॉपीरइट Ayush Deshpande

वहां पहुँचे भाजपा सांसद किरीट सोमैय्या ने बीबीसी से कहा, "सरकार इन किसानों की हर मुमकिन मदद कर रही है. बीते कई साल से लोग यहां आ रहे हैं. हालांकि इस साल इनकी तादाद काफ़ी बढ़ी है, पर राज्य सरकार ही नहीं बल्कि भारत सरकार भी इनकी हर मुमकिन मदद कर रही है."

इमेज कॉपीरइट Ayush Deshpadne

हालांकि मीडिया, पुलिस और राजनेताओं के इस जमावड़े को देख स्थानीय लोगों को कुछ हैरानी भी हुई.

यहीं रहने वाले प्रकाश आंबरे कहते हैं, "ये किसान गर्मी का मौसम शुरू होते ही मुंबई का रुख करने लगते हैं और मॉनसून शुरू होते-होते गांव लौट जाते हैं पर कभी इतना ज़्यादा जमावड़ा हमने नहीं देखा."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

संबंधित समाचार