एक रेस्तरां जहां पेट्स भी करते हैं मज़े

पेट कैफ़े इमेज कॉपीरइट jotsna thaval

मुंबई में ऐसे रेस्तरां और कैफ़े का चलन बढ़ रहा है, जहां पालतू जानवरों की सुविधा के साथ उनके खाने-पीने का भी ध्यान रखा जा रहा है.

घर में जब एक पालतू जानवर आता है, तब वह महज़ जानवर न रहकर परिवार का सदस्य बन जाता है.

इमेज कॉपीरइट mutt hutt

लेकिन समस्या तब होती है, जब पूरा परिवार रेस्तरां जा रहा हो और अपने पालतू जानवर को घर पर अकेला या परिवार के किसी अन्य सदस्य को उसके साथ छोड़ कर जाना पड़ता है.

कई परिवारों की इस समस्या का समाधान अब मुंबई के कुछ रेस्तरां और कैफ़े करने में जुट गए हैं.

इमेज कॉपीरइट mutt hutt

ऐसे ही एक कैफ़े 'ज़ू बार' के संस्थापकों में से एक निशांत जोशी बताते हैं, "मेरे इंग्लिश मैस्टिफ़्स को लेकर बाहर जाना मेरे लिए हमेशा मुश्किल रहा है. इसी की वजह से मैंने 'ज़ू बार' को बनाने के बारे में सोचा."

वे आगे बताते हैं, "इस रेस्तरां से जुड़ा 900 वर्ग फ़ुट का एरिया सिर्फ़ पेट्स के लिए है. यहां उनका खाना, खिलौने और अटेन्डन्ट्स होते हैं."

निशांत ने बताया कि यहां के स्टॉफ़ को पालतू जानवरों की देखभाल करने का तरीक़ा भी सिखाया गया है. वहीं रसोई में भी पेट्स के लिए खाना बनाने के लिए अलग जगह है और उनके लिए ख़ास मेनू भी है.

इमेज कॉपीरइट Zoobar

'ज़ू बार' में आने वाले पेट्स के बारे में कहते हैं कि यहां हर पंद्रह दिन में 20-30 पेट्स आते हैं. अब तक यहां पंछी, कुत्ते, बिल्ली और हैमस्टर्स आ चुके हैं. हमने अडॉप्शन के कई कार्यक्रम भी रखे हैं.

वहीं भक्ति भुखनवाला और तृप्ति ज़वेरी का 'मट्ट हट्ट कैफ़े' पॉप अप कॉन्सेप्ट पर काम करता है.

इमेज कॉपीरइट Doolallay

अपने कैफ़े के बारे में भक्ति और तृप्ति ने बताया कि पेट्स को सोशलाइज़िंग करने का मौक़ा नहीं मिलता. इस वजह से 'मट्ट हट्ट' का विचार आया.

भक़्ति ने बताया, "यहां अभी तक पेट्स के लिए बर्थ डे पार्टीज़, फ़ूड इवेंट और म्यूज़िक फ़ेस्टिवल तक आयोजित किए गए हैं."

इमेज कॉपीरइट sonam gandhi

तृप्ति बताती हैं, "पेट ग्रूमिंग, पेट मसाज, पेट फ़ोटोग्राफ़ी की व्यवस्था भी यहां होती है."

अंधेरी और बांद्रा के पेट कैफ़े 'डुलाली' की ब्रांड मैनेजर त्रेशा गुहाने कहती हैं, “इस कैफ़े में सप्ताहांत में पेट कुकिंग, पेट्स के साथ सफ़र करने से लेकर फर्स्ट-एड तक और पेट सायकॉलॉजी जैसे वर्कशॉप आयोजित किए जाते हैं.”

इमेज कॉपीरइट kavita narwani

पेट लवर निधी शेट्टी कहती हैं, "ऐसे रेस्तरां और बार में ख़ुद के साथ पेट्स की भी अच्छी आउटिंग हो जाती है."

उनका कहना है, "ऐसी जगहों पर न तो उनके खाने-पीने की चिंता होती और न ही पेट्स बोर होते हैं. ऐसे विकल्प इंसान और जानवर दोनों के लिए ही अच्छे हैं."

इमेज कॉपीरइट jyotsna thaval

वहीं एक अन्य पेट कैफ़े 'गोस्ताना' की अर्पणा ग्वालानी कहती हैं, "मेरे कैफ़े में पेट्स ही स्टार हैं. उनके होने से कैफ़े का माहौल अलग ही रहता है. यहां जो भी पेट पैरेन्ट आते हैं, वह अपने पैट्स को अच्छे से संभालते हैं.''

इस कैफ़े में अपने पेट के साथ आईं लीशा अल्मेडा बताती हैं, "मेरे पेट के आउटिंग के लिए ये यह सबसे अच्छा विकल्प है. अब हमें अपने पेट को घर पर अकेला नहीं छोड़ना पड़ता.''

इमेज कॉपीरइट jyotsna thaval

इस कैफ़े का पेट ज़िज़ू भी हमेशा ग्राहकों के स्वागत के लिए हाज़िर होता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार