अब 'गैंग्स ऑफ वासेपुर-3' के विरोध की तैयारी

गैंग्स ऑफ वासेपुर-3

'उड़ता पंजाब' को सेंसर बोर्ड की हरी झंडी के बाद अब अनुराग कश्यप की आने वाली फिल्म 'गैंग्स ऑफ वासेपुर-3' के विरोध की पटकथा लिखी जा रही है.

झारखंड के धनबाद ज़िले के वासेपुर क़स्बे के लोगों ने इसके विरोध का फ़ैसला किया है.

लोगों का मानना है कि फिल्म पहले के दोनों पार्ट में वासेपुर की ग़लत छवि दिखाई गई है जिसके कारण वहां के लोगों की बदनामी हुई है.

वार्ड काउंसलर निसार आलम का कहना है कि 2012 में इस फिल्म के पहले पार्ट के आने के बाद वासेपुर में अपराध का ग्राफ़ बढ़ गया.

वो बताते हैं कि अब लोग वासेपुर में अपनी बेटियों की शादी करने से कतरा रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash

उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि वासेपुर के ही जीशान क़ादरी अपने स्वार्थ के लिए यहां की ग़लत तस्वीर पेश कर रहे हैं, जबकि वासेपुर के सामाजिक ताना बाना में कौमी एकता की मिठास है.

वो कहते हैं कि कई दूसरी अच्छी बातें भी हैं, जिन्हें शोकेस किया जा सकता था. कादरी फिल्म के सह पटकथा लेखक हैं.

बकौल निसार आलम, "इस क़स्बे के लोग आईएएस, आईआईटी इंजीनियर, डॉक्टर और पुलिस में बड़े अधिकारी हैं. फिल्म तो इन ख़ूबियों पर भी बनाई जा सकती है."

वासेपुर की आरा मोड़ कालोनी के निवासी रुस्तम अंसारी ने बताया कि कोलकाता में उन्हें होटल वालों ने सिर्फ़ इसलिए कमरा नहीं दिया क्योंकि वे वासेपुर से हैं.

ऐसा अनुभव दूसरे ग्रामीणों का भी है. लोगों ने बताया कि होटल वाले रेसिडेंशल प्रूफ देखते ही कमरों के बुक्ड होने का बहाना बना देते हैं.

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash

भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के धनबाद जिलाध्यक्ष बबलू फ़रीदी मानते हैं कि इस फिल्म के कारण वासेपुर के युवाओं पर ग़लत असर पड़ रहा है और इसलिए फिल्म के पार्ट-3 का विरोध होगा.

उन्होंने कहा कि इसके लिए क़ानूनी लड़ाई भी लड़ी जाएगी.

पिछले दिनों जीशान क़ादरी वासेपुर में बढ़ रहे क्राइम ग्राफ का अध्ययन करने यहां आए थे.

उन्होंने मीडिया को कहा, "हमने गैंग्स ऑफ वासेपुर के पहले दो पार्ट में साल 2002 तक की कहानी बताई थी. तीसरे पार्ट में हम 2003 से 2015 की कहानी बताने वाले हैं. फिल्म की स्क्रीप्टिंग का काम पूरा हो चुका है. शूटिंग भी चल रही है. हम इसे अक्टूबर तक पूरी कर लेंगे. इस साल के अंत तक फिल्म सिनेमाघरों में रिलीज कर दी जाएगी."

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash

जीशान ने कहा कि फिल्म को फिल्म की तरह ही लेना चाहिए और इसका विरोध करने वाले लोग सस्ती लोकप्रियता के फेर में ऐसा कर रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार