'शर्म का सारा बोझ बेटियों के ऊपर ही है'

नादिया हुसैन

जानी मानी पाकिस्तानी सुपरमॉडल नादिया हुसैन का कहना है कि बीस साल पहले जब उन्होंने मॉडलिंग की दुनिया में कदम रखा तो राह अब से ज़्यादा आसान थी.

चार बच्चों की मां, 37 साल की नादिया का अपना बिज़नेस है, लेकिन वो अब भी फ़ैशन शो में रैंप वॉक करती हैं.

उनका जन्म लंदन में हुआ था और परवरिश पाकिस्तान में. वो एक प्रशिक्षित डेंटिस्ट हैं. नादिया ने फैशन की दुनिया में आने से पहले डेंटल कॉलेज से पढ़ाई की थी.

पाकिस्तान फ़ैशन वीक में हिस्सा लेने लंदन आई नादिया ने बताया, "मेरी मां नहीं चाहती थी कि मैं इस पेशे को अपनाऊं, लेकिन समय बीतने के साथ उनके रुख़ में बदलाव आया और वो मान गईं. हां, मेरे पिता शुरू से ही मेरे साथ थे. मेरी मां चाहती थी कि मैं पढ़ाई पर ध्यान दूं, क्योंकि मैंने डेंटल कॉलेज में पढ़ाई शुरू कर दी थी."

नादिया के माता-पिता एक तरह से अपवाद थे, क्योंकि पाकिस्तान में मॉडलिंग के पेशे को आम तौर पर अच्छी नज़र से नहीं देखा जाता.

हालाँकि नादिया मानती हैं कि लोगों की सोच अब बदल रही है.

उनका कहना, "मॉडलिंग इंडस्ट्री बढ़ रही है. इंडस्ट्री एक बदलाव के दौर से गुज़र रही है. पहले कभी ऐसा फ़ैशन शो नहीं हुआ, जिसमें 40 मॉडलों ने हिस्सा लिया हो, लेकिन अब ऐसा हो रहा है."

पाकिस्तान से आने वाली ख़बरों की सुर्ख़ियों में ऑनर किलिंग और बीवी की हल्की पिटाई पर भी उन्होंने अपनी बात रखी.

नादिया का कहना था, "मुझे लगता है कि ये इस्लाम से भी पहले की सोच है. हमारे ज़ेहन में यह बात जम गई है कि शर्म का सारा बोझ बेटियों के ऊपर ही है."

वो ख़ुद के बारे में बताती हैं, "घर में सभी मेरा साथ देते हैं. मेरे पति और मेरी सास बच्चों का पूरा ख़्याल रखते हैं."

नादिया पाकिस्तान की उन चुनिंदा महिलाओं में से हैं जो फ़ैशन, राजनीति और विज्ञान जैसे क्षत्रों में भी अपना नाम बना पाई हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार