'आप ने गलत तरीके से विज्ञापनों पर उड़ाई रकम'

इमेज कॉपीरइट EPA

दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार को विज्ञापन के मामले में सुप्रीम कोर्ट के दिशा निर्देशों के उल्लंघन का दोषी पाया है.

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने शिकायत दर्ज कराई थी कि आम आदमी पार्टी अपने विज्ञापनों में सुप्रीम कोर्ट के दिशा निर्देशों का उल्लंघन कर रही है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार केंद्र सरकार की गठित समिति ने आदेश दिया है कि दिल्ली के बाहर छपे विज्ञापनों में खर्च की गई रकम आम आदमी पार्टी को लौटानी होगी.

समिति ने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की सरकार सरकारी खजाने को अपने विज्ञापनों पर पानी की तरह बहा रही है. उन्हें इस पैसों को सरकारी खजाने में जमा करना चाहिए.

सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त बीबी टंडन की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय समिति का गठन किया था.

इमेज कॉपीरइट AJAY MAKAN FB

अपने आदेश में समिति ने कहा है कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली सरकार शिकायतकर्ता के द्वारा की गई नौ शिकायतों में से छह में सुप्रीम कोर्ट के दिशा निर्देशों के उल्लंघन की दोषी है.

इन विज्ञापनों में दिल्ली के बाहर छपे विज्ञापन, ऐसे विज्ञापन जिनमें आम आदमी पार्टी का नाम छपा हो, दूसरे राज्यों की घटनाओं पर मुख्यमंत्री के विचारों का प्रचार और विपक्ष पर निशाना साधने वाले विज्ञापन शामिल हैं.

इमेज कॉपीरइट DELHI GOVERNMENT

जाने-माने विज्ञापन गुरू पीयूष पांडेय और वरिष्ठ पत्रकार रजत शर्मा इस समिति के सदस्य हैं. समिति ने कहा है कि उच्चतम न्यायालय के 13 मई 2015 के आदेश के उल्लंघन के मामले में 'आप' को विज्ञापनों पर हुए खर्च की भरपाई करनी होगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)