मोदी को जिग्नेश का बर्थडे गिफ्ट 'रेल रोको आंदोलन'

जिग्नेश मेवाणी

युवा दलित नेता जिग्नेश मेवाणी ने कहा है कि सरकार ने संवाद के सारे रास्ते बंद कर रखे हैं और अब आंदोलन करने के अलावा कोई और विकल्प बचा नहीं है.

मेवाणी ने घोषणा की कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके जन्मदिन के अवसर पर 'रेल रोको आंदोलन' के रूप में एक खास उपहार दिया जाएगा.

उन्होंने कहा कि एक अक्टूबर से गुजरात समेत पूरे देश में रेल रोको आंदोलन शुरू किया जाएगा.

जिग्नेश ने शुक्रवार को बीबीसी से खास बातचीत में कहा, ''मोदी जी अपने जन्मदिन पर गुजरात आ रहे हैं. हम उन्हें इस अवसर पर बर्थडे के गिफ्ट के रूप में'रेल रोको आंदोलन' देंगे.''

जिग्नेश ने यह बातचीत इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर गुजरात की उड़ान पकड़ने से पहले की थी.

गुजरात पहुंचने पर उन्हें सरदार वल्लभ भाई पटेल हवाई अड्डे से ही क्राइम ब्रांच ने हिरासत में ले लिया था.

उनके संगठन के साथी राकेश के अनुसार जिग्नेश को शनिवार सुबह 3:30 बजे हिरासत से छोड़ दिया गया है. उनके साथ में चार-पांच पुलिसकर्मी निगरानी के लिए रखे गए हैं.

बातचीत में जिग्नेश ने कहा, "हमारी जो मांगें हैं उनमें से एक अहम मांग यह है कि नियमों के मुताबिक ज़मीनों का आबंटन सरकार करे. इन प्रावधानों के तहत सरकार अनुसूचित जाति और जनजाति समेत भूमिहीनों को ज़मीन का आबंटन कर सकती है. इस मांग को लेकर हमने सरकार को जगाने और समझाने के लिए शांतिप्रिय ढंग से बड़े-बड़े धरना-प्रदर्शन किए, कई ज्ञापन सौंपे. हमने तमाम लोकतांत्रिक तरीकों को आज़मा लिया है....पर सरकार ने हमारी हर आवाज़ को अनसुना कर दिया. सरकार दलितों और भूमिहीनों को एक इंच ज़मीन देने को तैयार नहीं है. इसलिए हमें मजबूरी में रेल रोको का आह्वान करना पड़ा."

मेवाणी अपनी बात को जारी रखते हुए कहा, "हमें पता है कि इस आंदोलन से आम जनता को परेशानी होगी. पर अब हमारे पास कोई और विकल्प सरकार ने छोड़ा ही नहीं है. जनता हमें माफ करें."

जिग्नेश शनिवार की सुबह अहमदाबाद से लगभग 150 किलोमीटर दूर दौलना के सरोड़ा गांव में भूमि सुधार को लेकर आयोजित सभा में जाएंगे.

यह सभा वर्ष 2003 में बहुजन समाज के लोगों को आबंटित ज़मीन के मलिकाना हक़ दिलाए जाने को लेकर आयोजित की गई है.

उना अत्याचार लड़त समिति के संयोजक जयेश सोलंकी ने बीबीसी को बताया कि जिग्नेश ने लगभग चार दिन पहले वेरवाड़ा की जनसभा में इस मीटिंग की घोषणा कर दी थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)