वो पांच मामले जिनसे दहला सिवान का कलेजा

राष्ट्रीय जनता दल के पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन की जमानत पर रिहाई के बाद से सिवान लगातार चर्चा में बना हुआ है.

दरअसल बीते दो दशक के दौरान सिवान में होने वाले हर अपराध को शहाबुद्दीन से जोड़कर देखा जाता रहा है.

ऐसे ही पांच बड़े मामलों का हाल, देखिए.

राजपुर हत्याकांड - 13 सितंबर, 1996: भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी-लेनिनवादी) के नेता ग़ुलाम हैदर के घर बक़रीद की ख़ुशियों का माहौल था. इसी दौरान हथियारबंद लोगों ने सिवान के आंदर प्रखंड के राजपुरा गाँव में उनके घर पर हमला कर दिया.

इस हमले में ग़ुलाम हैदर के बुज़ुर्ग पिता और एक रिश्तेदार के अलावा उनकी तीन साल की बेटी को मौत के घाट उतारा गया. ग़ुलाम हैदर उस वक़्त अपने घर पर नहीं थे. इस मामले में मोहम्म्द शहाबुद्दीन पर साज़िशकर्ता होने का आरोप है.

छात्र नेता चंद्रशेखर हत्याकांड - 31 मार्च, 1997: भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी-लेनिनवादी) के आह्वान पर सिवान के जेपी चौक के पास धरना चल रहा था जिसमें संगठन के लोग इलाक़े में सामंतवादियों और अपराधियों के बीच के गठजोड़ के ख़िलाफ़ लोगों को गोलबंद होने के लिए कह रहे थे.

इमेज कॉपीरइट Courtsey Youtube Screenshot
Image caption चंद्रशेखर

तभी हथियारबंद लोगों ने उस धरने पर हमला बोल दिया जिसमें जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के पूर्व अध्यक्ष चंद्रशेखर और सीपीआई (एम-एल) के नेता श्याम नारायण यादव मारे गए थे.

घटना में कई लोगों को गोली लगी थी. इस मामले में चार लोगों को उम्र क़ैद की सज़ा सुनाई जा चुकी है जबकि मोहम्मद शहाबुद्दीन की भूमिका को लेकर सीबीआई अभी भी जांच ही कर रही है.

प्रतापपुर गोली कां - 6 मार्च, 2001: यह ऐसा गोलीकांड था जिसमे कुल मिलाकर नौ लोगों की जानें गईं थी. मामला राजद के नेता मनोज कुमार की गिरफ़्तारी के लिए आई पुलिस से मोहम्मद शहाबुद्दीन और और उनके लोगों की झड़प हो गई थी.

इमेज कॉपीरइट Other

इसके बाद उत्तर प्रदेश के देवरिया से पुलिस बल मंगाना पड़ा और प्रतापपुर में मोहम्मद शहाबुद्दीन के घर घंटों तक उनके समर्थकों और पुलिस के बीच गोलीबारी होती रही.

इस गोलीबारी में दो पुलिसकर्मी भी मारे गए थे. पुलिस की गाड़ियों में आग लगा दी गई थी और पुलिस ने घटना स्थल से तीन एके-47 राइफलें, हथगोले और दूसरे हथियार बरामद किए थे. इस मामले में मोहम्मद शहाबुद्दीन को मुख्य अभियुक्त बनाया गया था और उनपर आरोप भी गठित किए गए थे.

इमेज कॉपीरइट Vivek
Image caption चंद्रकेश्वर प्रसाद

तेज़ाब कांड - व्यवसायी चन्द्रकेश्वर प्रसाद के तीन पुत्रों की हत्या - 16 अगस्त 2004: यह कांड सिवान में अबतक की सबसे वीभत्स हत्या थी जिसमें व्यवसायी चंद्रकेश्वर प्रसाद के दो पुत्रों को तेज़ाब में डुबोकर मारा गया. घटना के बाद भी उनके दोनों पुत्र सतीश और गिरीश की लाशें भी बरामद नहीं हो पाईं.

तीन सालों के बाद चंद्रकेश्वर प्रसाद के सबसे बड़े पुत्र राजीव की भी गोली मारकर हत्या कर दी गई. मामला ज़मीन के विवाद से जुड़ा है जिसमें मोहम्मद शहाबुद्दीन को साज़िशकर्ता बनाया गया है. इस मामले में सिवान के ज़िला कोर्ट ने मोहम्मद शहाबुद्दीन को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी जिस पर उन्होंने पटना उच्च न्यायालय में याचिका दायर की.

पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड - 13 मई,2016: एक दैनिक अखबार के लिए काम कर रहे राजदेव रंजन की दो मोटरसाइकिलों पर सवार होकर आए अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी जब वो अपने दफ़्तर से घर लौट रहे थे.

इमेज कॉपीरइट Rajdev Ranjan FB
Image caption राजदेव रंजन

राजदेव रंजन के परिजनों का आरोप है कि जेल में बंद मोहम्मद शहाबुद्दीन से मिलने वाले बड़े नेताओं के बारे में खुलासा करने के बाद उन्हें धमकियां मिलने लगी थीं.

इस मामले में पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ़्तार किया है जबकि इस हत्याकांड की जांच सीबीआई को सौंप दी गई है. मोहम्मद शहाबुद्दीन को इस कांड में भी बतौर मुख्य साज़िशकर्ता नामज़द किया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार