'नोबेल पुरस्कार का ख्वाब देख रहे हैं नरेंद्र मोदी'

इमेज कॉपीरइट Reuters

रक्षा मामलों के विश्लेषक मारूफ़ रज़ा ने बीबीसी से बातचीत में कहा है कि मोदी और भारत के अन्य जितने प्रधानमंत्री हुए हैं, वो नोबेल शांति पुरस्कार पाने का ख्वाब देखते रहे हैं.

वो मानते हैं कि नरेंद्र मोदी की 'लाहौर यात्रा पूरी तरह से ग़लत थी और उस समय भी उन्होंने कहा था कि ये पप्पी-झप्पी की कूटनीति नहीं चलेगी.'

उनका मानना है कि सोते-जागते, उठते-बैठते हर वक़्त पाकिस्तान के दिल में यही होता है कि कैसे भारत का मुकाबला करें, और पाकिस्तान का एकमात्र मकसद है कि किसी भी तरह भारत के लिए समस्या पैदा करे, क्योंकि इसी की बदौलत पाकिस्तान एक देश के तौर पर बना रह सकता है.

हालांकि, मारूफ़ रज़ा का दावा है कि पठानकोट और उड़ी के हमलों के तार सीधे पाकिस्तान से जुड़े हुए हैं, लेकिन पाकिस्तान बार-बार इन आरोपों को ख़ारिज करता आया है. पाकिस्तान ने उड़ी के मामले में ये भी कहा है कि भारत ने मामले की जांच करने से पहले ही अपने चित-परिचित अंदाज़ में पाकिस्तान के सिर पर आरोप मढ़ दिए.

इमेज कॉपीरइट AFP

रविवार को भारत प्रशासित कश्मीर के उड़ी में सैना के कैंप पर चरमपंथी हमले में 18 भारतीय फ़ौजी मारे गए.

इस घटना और इससे जुड़े मुद्दों पर पढ़िए रक्षा मामलों के जानकार मारूफ़ रज़ा की राय, उन्ही की ज़ुबानी-

"भारत और पाकितान के परमाणु हथियार संपन्न राष्ट्र होने के बावजूद, कारगिल युद्ध हुआ था. परमाणु हथियार रहते हुए भी पूरी लड़ाई लड़े बिना, छोटी-मोटी फ़ौजी कार्रवाइयां की जा सकती हैं और पाकिस्तान को जवाब दिया जा सकता है.

अमरीका पाकिस्तान पर दबाव बना सकता है बशर्ते की भारत अमरीका पर दबाव बनाए. अमरीका पर दबाव बनाने का सबसे आसान तरीका तो यह है कि उससे बोला जाए कि हमने तो अब अमरीका से 15 बिलियन डॉलर का रक्षा सौदा किया है, क्या अमरीका भारत का समर्थन नहीं कर सकता....नहीं तो, बाकी के रक्षा सौदे भारत रूस से कर सकता है.

भारत के सामने किस तरह का विकल्प हो सकता है? भारत को अब पूरी दुनिया के सामने यह ऐलान कर देना चाहिए कि अगर कोई देश चरमपंथ के ख़िलाफ़ लड़ाई में भारत के साथ है, तो उसे पाकिस्तान के साथ अपने सारे आर्थिक संबंध तोड़ लेने चाहिए.

इमेज कॉपीरइट EPA

अमरीका दुनिया का सबसे ताकतवर देश है, इसलिए अब यह देखने वाली बात होगी कि वो पाकिस्तान को अपने प्रभाव में रखेगा या उसकी दुम दबाएगा.

पठानकोट के हमले और उड़ी हमले के बीच में एक संबंध है. वो यह है कि दोनों हमलों के तार पाकिस्तान से जुड़े हैं.

इन दोनों ही हमलों में प्रशिक्षण, हथियार, जीपीएस सिस्टम और जो मैप और दूसरी चीजें मिली हैं, उस पर पाकिस्तानी मिलिट्री एम्युनेशन की मार्किंग है.

इमेज कॉपीरइट EPA

इसे सुरक्षा में चूक कहना तो आसान है लेकिन पठानकोट में तो इससे भी ज्यादा बड़ी बात हुई थी. उस मामले में तो चरमपंथी पूरे बॉर्डर क्रॉस करने के बाद गाड़ियों में बैठकर पठानकोट तक पहुंचे.

सीमा और पठानकोट के बीच कई घंटे का सफर है. उस मामले में तो साबित हुआ था कि कुछ पुलिस के अधिकारी थे जो उनसे मिले हुए थे.

वो मानते हैं कि उड़ी का इलाका भले ही सीमा से लगा हो और वहां पर कई तरह की तकनीक भी लगाई गई हो सीमा पर नज़र रखने के लिए, लेकिन वो भौगोलिक रूप से एक मुश्किल इलाका है."

(ये रक्षा मामलों के विश्लेषक मारूफ रज़ा के निजी विचार हैं. ये मारूफ़ रज़ा से बातचीत पर आधारित है.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)