उड़ी हमले के पहले 'निशाने' पर थी चरमपंथियों की नज़र!

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption भारत प्रशासित कश्मीर के उड़ी में रविवार को हुए चरमपंथी हमले में 18 सैनिकों की मौत हो गई थी.

भारत प्रशासित कश्मीर के उड़ी में रविवार को हुए चरमपंथी हमले की जांच से जुड़ी ख़बरों को दिल्ली से प्रकाशित अख़बारों के पहले पन्ने पर प्रमुखता से जगह मिली है.

'इंडियन एक्सप्रेस' के मुताबिक़ भारत प्रशासित कश्मीर के उड़ी में हुए चरमपंथी हमले की जांच कर रही नेशनल इन्वेस्टीगेशन एजेंसी (एनआईए) मानती है कि चरमपंथियों ने कम से कम एक दिन ब्रिगेड मुख्यालय के पास के पहाड़ों में बिताया था और अपने निशाने पर निगाह रखी थी.

अख़बार ने एनआईए सूत्रों के हवाले से लिखा है कि ज़्यादातर मौतें रसोई घर और स्टोर रुम में हुई जो हमले के दौरान जल गए थे. ख़बर में सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि दोनों इमारतों को बाहर से बंद कर दिया गया था जिससे अंदर मौजूद लोग बाहर न आ सकें. उड़ी हमले में सेना के 18 जवानों की मौत हो गई थी.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption भारत प्रशासित कश्मीर के उड़ी में तैनात सेना का जवान

'इंडियन एक्सप्रेस' ने इससे जुड़ी एक और ख़बर में बताया है कि सेना इस बात की जांच कर रही है कि कहीं किसी जानकार ने तो चरमपंथियों की मदद नहीं की थी. अख़बार ने सूत्रों के हवाले से दावा किया है कि चरमपंथी ब्रिगेड कमांडर के ऑफ़िस और घर की स्थिति से भी वाक़िफ़ थे.

'हिंदुस्तान टाइम्स' ने पाकिस्तान से लगती सीमा पर चरमपंथियों के दो समूहों की मंगलवार को सेना के साथ हुई मुठभेड़ की ख़बर को पहली ख़बर बनाया है. अख़बार के मुताबिक़ मुठभेड़ में एक सैनिक की मौत हो गई जबकि घुसपैठ की कोशिश कर रहे आठ संदिग्ध भी मारे गए. ख़बर में ये जानकारी भी दी गई है कि उड़ी सेक्टर में भारत और पाकिस्तान की सेना के बीच गोलीबारी भी हुई.

इमेज कॉपीरइट Reuters

'हिंदुस्तान टाइम्स' ने दिल्ली की व्यस्त सड़क पर एक 22 बरस की स्कूल टीचर की हत्या की ख़बर को प्रमुखता से जगह दी है. अख़बार के मुताबिक़ करुणा नाम की शिक्षिका पर हमलावर ने कैंची से 20 से ज्यादा बार हमले किए लेकिन उसकी मदद को कोई आगे नहीं आया.

'इंडियन एक्सप्रेस' ने भी इस ख़बर को पहले पन्ने पर जगह दी है. अखबार की सुर्खी कहती है, "दिल्ली की सड़क पर महिला पर 27 वार".

अख़बार ने लिखा है कि हमलावर बीते एक साल से उसका पीछा कर रहा था.

वहीं 'टाइम्स ऑफ़ इंडिया' की एक ख़बर के मुताबिक़ दिल्ली से सटे गुडगांव ( अब गुरुग्राम) में 27 बरस के एक व्यक्ति ने एक महिला पर गोली चलाई. महिला ने एक लॉकेट पहना हुआ था, गोली उसमें लगी और महिला की जान बच गई. अख़बार के मुताबिक़ महिला ने गोली चलाने वाले शख़्स के शादी के प्रस्ताव को ठुकरा दिया था.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption समाजवादी पार्टी में अमर सिंह को महासचिव बनाया गया है (फाइल चित्र)

द स्टेट्समैन ने राज्यसभा सांसद अमर सिंह को समाजवादी पार्टी का महासचिव बनाए जाने की ख़बर को पहले पन्ने पर जगह दी है. खबर की हेडिंग है, "अखिलेश कैंप को झटका, अमर सिंह समाजवादी पार्टी के महासचिव बनाए गए."

'टाइम्स ऑफ इंडिया' की सुर्खी है, "मुलायम सिंह यादव ने बाहरी अमर को समाजवादी पार्टी का महासचिव बनाया." अख़बार लिखता है कि ये क़दम उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को साफ़ संदेश है कि पार्टी उनके पिता के आदेश से चलती है.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption भारतीय प्रधानमंत्री का सरकारी आवास रेसकोर्स रोड पर है

'द हिंदू' की एक ख़बर के मुताबिक़ रेस कोर्स रोड का नाम एकात्म मार्ग हो सकता है. नई दिल्ली म्यूनिसिपल काउंसिल के सामने इस आशय का प्रस्ताव दिया गया है. ये प्रस्ताव भारतीय जनता पार्टी की सांसद मीनाक्षी लेखी ने रखा है. प्रधानमंत्री का सरकारी घर रेसकोर्स रोड पर ही है.

'हिंदुस्तान टाइम्स' के मुताबिक़ रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया ने मंगलवार को कहा कि 10 रुपये का सिक्का चलन में है और इसे लेने से मना करने वालों के ख़िलाफ़ क़ानूनी कार्रवाई हो सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)