18 जवानों का बलिदान बेकार नहीं जाएगा: मोदी

नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट AFP

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि पाकिस्तान के हुक्मरान सुन लें कि उड़ी में 18 जवानों का बलिदान बेकार नही जाएगा.

केरल के कोझिकोड़ में शनिवार को रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि एक ही देश है जो सिर्फ भारत ही नहीं चारों तरफ आतंकवाद निर्यात करने में लगा हुआ है.

उन्होंने कहा, "अफ़गानिस्तान हो, बांग्लादेश हो चाहे कोई और. जब भी आतंकवाद की कोई घटना होती है तो थोड़े दिन बाद पता चलता है कि आतंकवादी या तो इसी देश से गया था या फिर घटना के बाद ओसामा बिन लादेन की तरह इस देश में आ कर बसा था."

मोदी ने कहा, "हमारे पड़ोसी देश के निर्यात किए चरमपंथियों के कारण हमारे 18 जवानों को बलिदान होना पड़ा. चरमपंथी कान खोल कर सुन लें ये देश इस बात को कभी भूलने वाला नहीं है."

मोदी ने कहा कि भारत पाकिस्तान को दुनिया में अलग-थलग करने में सफल रहा है और इस अभियान को और तेज़ किया जाएगा.

मोदी ने कहा, "वो दिन दूर नहीं जब पाकिस्तान की जनता चरमपंथ और अपने नेताओं के खिलाफ़ लड़ने मैदान में उतरेगी."

उन्होंने कहा कि पिछले कुछ महीनों में पड़ोसी देश ने 17 बार अलग-अलग गुटों में चरमपंथी भेजे थे. हमारी सेना ने 120 चरमपंथियों को मारा है.

मोदी ने कहा कि पड़ोसी देश के नेता, उनके हुक्मरान कहते थे कि हज़ार साल लड़ेंगे, काल के भीतर कहां खो गए, कहीं नज़र नहीं आते.

इमेज कॉपीरइट Vasundhara raje

उन्होंने कहा, "पाकिस्तान के लोग अपने नेताओं से पूछें कि पीओके तो आपके पास है आप उसे नहीं संभाल पाते, पूर्वी पाकिस्तान यानी बांग्लादेश आपके पास था आप उसे नहीं संभाल पाए, आप सिंध को नहीं संभाल पा रहे, बलूचिस्तान को नहीं संभाल पा रहे, गिलगित को नही संभाल पा रहे. जो आपके पास है वहीं नहीं संभाल पा रहे तो किस मुंह से कश्मीर की बात करते हो."

मोदी ने कहा कि पाकिस्तान के लोग पूछें कि दोनों देश एक साथ आज़ाद हुए तो क्या कारण है कि हिंदुस्तान दुनिया में सॉफ्टवेयर निर्यात करता है और पाकिस्तान चरमपंथियों को?

उन्होंने कहा, "मैं पाकिस्तान के छोटे बच्चों से कहना चाहता हूं कि आओ दोनों अशिक्षा को खत्म करने की लड़ाई लड़ें. हिंदुस्तान में भी नवजात शिशु मरते हैं, उन्हें जन्म देने वाली माएं मरती हैं आओ एक लड़ाई इसे खत्म करने के लिए लड़ें और देखें कि हिंदुस्तान जीतता है या पाकिस्तान."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)