'मुसलमानों को वोट की मंडी का माल न समझें'

इमेज कॉपीरइट BJP

केरल के कोझिकोड में चल रही बीजेपी राष्ट्रीय परिषद की बैठक में रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि वे राजनीति में कुछ लेने या फिर हासिल करने में विश्वास नहीं करते.

मोदी ने कहा, "हम सत्ता के सिंहासन पर पहुंचने को लक्ष्य का अंत नहीं मानते."

मोदी ने कहा, "मुसलमानों को न पुरस्कृत करें और न ही उन्हें तिरस्कृत करें, बल्कि उनका परिष्कार करें. उन्हें न वोट की मंडी का माल और न ही घृणा की वस्तु समझें, उन्हें अपना समझें."

उन्होंने कहा कि बीजेपी कभी अपने सिद्धांतों से नहीं डिगी है.

मोदी ने कहा, "हम राजनीति में कुछ पाने के लिए नहीं, बल्कि सेवा के मक़सद से आए हैं. हमारी विकास की यात्रा में कोई पीछे नहीं रह सकता और समाज का आख़िरी व्‍यक्ति भी हमारे लिए अछूता नहीं."

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पंडित दीनदयाल उपाध्‍याय ने कहा था कि मुस्लिमों को केवल वोट बैंक नहीं समझा जाना चाहिए.

उन्होंने कहा कि जवानी से लबालब भरे देश के सपने भी जवान होने चाहिए.

मोदी ने इसके साथ ही कहा कि अगर भारत को कोई भी हिस्सा विकास से दूर रह जाता है, तो देश प्रगति नहीं कर पाएगा. उन्होंने कहा, "इसलिए हमारा लक्ष्य 'सबका साथ- सबका विकास' है. हम चाहते हैं कि सबसे पिछड़े तबके का सबसे पहले विकास हो."

इस मौके पर प्रधानमंत्री ने एलान किया कि पेरिस में हुए पर्यावरण सम्मेलन (कोप 21) पर सरकार 2 अक्टूबर को मुहर लगा देगी.

मोदी ने कहा कि समाज का हर वर्ग समान रूप से आगे बढ़े, विकास करे, यही एकात्मवाद है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार