'आलू की फ़ैक्ट्री पर ही बयान दें राहुल'

इमेज कॉपीरइट AP

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा है राहुल गांधी ने जब जवानों की ख़ून की दलाली के शब्द का प्रयोग किया तो उन्होंने सारी सीमाओं को लांघ दिया.

अमित शाह ने दिल्ली में एक प्रेस कांफ्रेस में कहा कि हो सकता है कि राहुल गांधी और कांग्रेस पार्टी को नरेंद्र मोदी पर एतराज़ हो लेकिन ये बयान सभी सीमाओं का लांघ गया है.

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने गुरुवार को दिए गए एक बयान में जवानों के ख़ून की दलाली शब्द का इस्तेमाल किया था.

राहुल गाँधी के इस बयान पर अमित शाह ने कहा, "उन्हें सर्जिकल स्ट्राइक जैसे मामलों पर नहीं बल्कि आलू की फ़ैक्ट्री जैसे मामलों पर ही बयान देना चाहिए".

इमेज कॉपीरइट PTI

अमित शाह ने इससे पहले कहा था कि इस सबकी शुरुआत सबसे पहले आप पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल ने की कि सरकार को इसका सबूत देना चाहिए.

उनका कहना था कि दूसरे देश में इसको पाकिस्तान के स्पोर्ट में बताया गया.

अमित शाह ने कहा कि पाकिस्तान आतंकवादियों की पनाहगाह है. ये बात भारतीय मीडिया के प्रयासों से दुनिया भर में फैली है .

उन्होंने कहा कि वो दुख के साथ कहना चाहते हैं कि देश के जवानों ने एक बहुत बड़ी घटना को अंजाम दिया, लेकिन कुछ पार्टियों ने इस पर सवाल उठाएँ हैं ये बहुत अफ़सोस की बात है.

उन्होंने कहा, "आज भाजपा की ओर से ऐसे सभी प्रयासों की निंदा करते हुए कहना चाहता हूँ कि जिन लोगों ने भी इस मामले का रजनीतिकरण किया वो बड़ी दुर्भाग्यपूर्ण बात है."

देश की सेना ने जो वीरता पूर्ण काम किया है क्या आप उसको शंका के दायरे में ला रहे हैं?

इसकी शुरुआत आप नेता केजरीवाल ने की और उसके बाद आप सभी ने कल सोशल मीडिया में देखा होगा #kejrivalsupportspak का ट्रेंड चल रहा था.

लेकिन कल जब राहुल गांधी ने जवानों की दलाली शब्द का प्रयोग किया तब उन्होंने सभी सीमाओं को लांघ दिया.

अमित शाह बोले, "मैं मानता हूँ राहुल कि दलाली शब्द आपके ज़हन में कहीं रहा होगा लेकिन ये समय नहीं था इस बयान का."

आपका बयान सेना के मनोबल को निर्बल करने वाला है.

क्या सेना के जवानों का ख़ून दलाली करने के लिए होता है?