नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी ने ट्वीट कर बताया 'बचपन का सपना'

इमेज कॉपीरइट NAWAZ TWEET

अभिनेता नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी ने कहा है कि रामलीला में अभिनय करने का उनका बचपन का सपना सच नहीं हो पाया है.

नवाज़ुद्दीन मुजफ़्फ़रनगर ज़िले के बुढाना के रहने वाले हैं और वहाँ की रामलीला में मारीच का किरदार निभाने वाले थे, लेकिन आयोजकों के मुताबिक़ स्थानीय शिव सेना के लोगों ने कहा कि वो मुसलमान हैं और उन्हें रामलीला से बाहर किया जाए.

नवाज़ुद्दीन ने अपने ट्विटर हैंडल पर रिहर्सल का एक वीडियो पोस्ट किया है.

उन्होंने लिखा, "मेरे बचपन का सपना सच नहीं हो सका, लेकिन अगले साल निश्चित तौर पर रामलीला का हिस्सा बनूंगा."

समाचार एजेंसी पीटीआई ने मुजफ़्फ़रनगर के पुलिस अधिकारियों के हवाले से कहा है कि कुछ हिंदू संगठनों के विरोध के बाद बुढाना में नवाज़ुद्दीन की शिरकत वाला रामलीला कार्यक्रम रद्द कर दिया गया.

पुलिस अधिकारी ने बताया कि हिंदू कार्यकर्ताओं ने आयोजकों से संपर्क किया और रामलीला कार्यक्रम में नवाजुद्दीन की शिरकत पर नाराज़गी जताई. इसके बाद आयोजकों ने कार्यक्रम को रद्द कर दिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)