यूपी पुलिस ने कहा नक्सली, बिहार पुलिस ने कहा अपराधी

इमेज कॉपीरइट UP POLICE
Image caption फ़ाइल तस्वीर

उत्तर प्रदेश पुलिस ने नोएडा से जिन नौ लोगों को गिरफ़्तार किया है उन सभी के नक्सली होने की बात साफ़ नहीं हो पायी है.

इसके अलावा उत्तर प्रदेश पुलिस ने वाराणसी से भी एक नक्सली की गिरफ़्तारी का दावा किया है.

पुलिस के मुताबिक़ नोएडा और वाराणसी से कुल मिलाकर अब तक 10 नक्सलियों की गिरफ़्तारी हो चुकी है.

उत्तर प्रदेश पुलिस के प्रवक्ता ने गिरफ्तार हुए लोगों को संदिग्ध नक्सली बताया था जो झारखंड, बिहार और उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं.

उधर बिहार पुलिस के आईजी ऑपरेशंस कुंदन कृष्णन ने बीबीसी के सलमान रावी से बातचीत में कहा, "बिहार के रहने वाले जिन लोगों की गिरफ्तारी के बारे में उत्तर प्रदेश पुलिस ने बताया है वो ज़्यादातर अपराधी हैं. पहले किसी समय हो सकता है ये कभी किसी माओवादी संगठन से संबंधित रहे हों.....हम इसकी जांच कर रहे हैं. अब तो ये आपराधिक तत्व हैं, मुझे इसके बारे में यकीन है. "

यह गिरफ्तारियां शनिवार की रात उत्तर प्रदेश पुलिस के आतंकवाद निरोधी दस्ते (एटीएस) ने एक अपार्टमेंट से की हैं जहाँ यह लोग पिछले दो सालों से रहते आ रहे थे.

उत्तर प्रदेश पुलिस के प्रवक्ता के अनुसार झारखंड, बिहार और उत्तर प्रदेश के रहने वाले इन लोगों की शिनाख़्त हो गई है.

इमेज कॉपीरइट up police twitter

उत्तर प्रदेश पुलिस का दावा है कि उनके पास से काफी हथियार बरामद किए गए हैं.

पुलिस ने इन लोगों की पहचान के लिए बिहार और झारखण्ड की पुलिस से संपर्क किया था.

अभी तक जो जानकारियां सामने आयीं हैं उनके मुताबिक़ गिरफ्तार किए गए सिर्फ एक व्यक्ति के बारे में बताया गया है कि वो झारखण्ड के लातेहार ज़िले का रहने वाला है.

उसकी गिरफ्तारी के लिए झारखण्ड की पुलिस ने पांच लाख रूपए का इनाम भी रखा था. उस संदिग्ध के बारे में उत्तर प्रदेश की पुलिस का कहना है कि वो नक्सली एरिया कमांडर रह चुका है.

इमेज कॉपीरइट up police twitter

मगर अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि उसका सम्बंध किस नक्सली गुट से रहा है क्योंकि लातेहार के इलाक़े में भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) के अलावा उससे टूटकर अलग हुए कई अन्य धड़े भी काफी सक्रिय हैं.

इनमें पीपुल्स लिबरेशन फ्रंट आफ इंडिया यानी पीएलएफआई, झारखण्ड लिबरेशन टाइगर्स (जेएलटी) आदि भूमिगत संगठन शामिल हैं.

उत्तर प्रदेश पुलिस के प्रवक्ता राहुल श्रीवास्तव का कहना है कि नोएडा से गिरफ्तार किये गए लोगों से पूछताछ के बाद एटीएस की टीम वाराणासी में भी अभियान चला रही थी जो कि अब पूरी हो चुकी है.

पुलिस प्रवक्ता ने दावा किया कि नोएडा से पकड़े गए लोगों में से एक, बम बनाने में माहिर है और ये भी कहा है कि ये संदिग्ध नोएडा के आसपास लूट और अपहरण जैसे अपराध करने की तैयारी भी कर रहे थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)