'जेएनयू के छात्रों ने अधिकारियों को बंद किया'

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK SAMIM ASGOR ALI
Image caption फ़ाइल फ़ोटो

हिंदुस्तान टाइम्स ने दिल्ली के जेएनयू विश्वविद्यालय के लापता छात्र की ख़बर छापी है और लिखा है कि छात्रों ने प्रशासनिक भवन को घेर लिया जिसकी वजह से कुलपति और दूसरे अधिकारी इमारत के अंदर बंद रहे.

अख़बार के मुताबिक जवाहरलाल नेहरू विश्व विद्यालय के छात्र यूनिवर्सिटी से लापता हुए एक छात्र के मामले में एफ़आईआर की मांग कर रहे थे.

स्कूल ऑफ़ बायोटेक्नोलॉजी के छात्र नजीब अहमद शनिवार से कथित तौर पर लापता हैं.

जेएनयू छात्र संगठन के मोहित पांडे के हवाले से अख़बार ने लिखा- ''हमारी मांग है कि जेएनयू प्रशासन की तरफ़ से एफ़आईआर दर्ज करवाई जाए. हिंसा में शामिल सभी छात्रों को कैंपस से दूर रखा जाए. हमने अधिकारियों के लिए खाना भेजा है क्योंकि वो लोग बाहर नहीं आ रहे थे.''

जेएनयू प्रशासन का कहना है कि 14 अक्तूबर को एक हॉस्टल में हुई झड़प में कथित तौर पर शामिल 12 छात्रों को तलब किया है.

इस मामले में नजीब के परिवार की शिकायत के बाद पुलिस में एफ़आईआर दर्ज की गई.

इमेज कॉपीरइट DHARMA PRODUCTIONS

इंडियन एक्सप्रेस के पहले पन्ने पर ख़बर है कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने करण जौहर की फ़िल्म 'ए दिल है मुश्किल' की रिलीज़ को लेकर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना की धमकियों पर कड़ी कार्रवाई का संकेत दिया है.

उन्होंने इंडियन एक्सप्रेस को बताया है कि पुलिस ने एमएनएस के बारह सदस्यों को गिरफ्तार किया है जिन्हें चार नवंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.

फडणवीस ने कहा कि ये लोग मेट्रो थिएटर में फिल्म की स्क्रीनिंग रोकने के लिए हंगामा करने की कोशिश कर रहे थे.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इंडियन एक्सप्रेस की प्रमुख हेडलाइन है कि केरल का एक युवक चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट के लिए लोगों की भर्ती करने वाला मुख्य व्यक्ति है.

अख़बार के मुताबिक़ वो भारतीयों को बहलाकर अफ़ग़ानिस्तान भेजता रहा है.

इंडियन एक्सप्रेस का कहना है कि सजीर अब्दुल्ला नाम का ये शख्स कोझिकोड से दुबई भाग गया है और तीन देशों की पुलिस अब इसकी तलाश कर रही है.

इमेज कॉपीरइट AFP

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक़ भारत प्रशासित कश्मीर में उथल-पथल के सौ दिन पूरे हो चुके हैं और इस दौरान सुरक्षा को ख़तरा बताकर 400 से ज़्यादा लोगों को पब्लिक सेफ़टी एक्ट के तहत पकड़ा गया है.

इस क़ानून के तहत बिना किसी मुक़दमे के छह महीने तक किसी को जेल में रखा जा सकता है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

पायेनियर अख़बार की ख़बर है कि इमरान ख़ान की पाकिस्तान तहरीके इंसाफ़ पार्टी के शरीफ़ विरोधी प्रदर्शन 'ऑक्यूपाई इस्लामाबाद' को लेकर चीन के राजदूत चिंतित हैं.

इमरान ख़ान ने प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ के खिलाफ़ दो नवंबर से अभियान का आह्वान किया है.

अख़बार के मुताबिक पाकिस्तान में चीन के राजदूत सन विडॉन्ग ने इमरान ख़ान से मुलाक़ात की है.

उन्होंने ये सुनिश्चित करना चाहा है कि पाकिस्तान के आर्थिक कॉरिडोर में चीन के 51 अरब डॉलर के निवेश को इस दौरान कोई नुक़सान तो नहीं हो सकता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)