छह सप्ताह के आतंक के बाद आदमखोर बाघिन ढेर

भारत के वन्यजीव अधिकारियों ने बताया है कि उत्तराखंड में छह सप्ताह तक चले बड़े अभियान के बाद आदमखोर बाघिन को मार दिया गया है.

बताया जा रहा है कि इस बाघिन ने दो लोगों को खा लिया था और हमला कर पांच अन्य लोगों को घायल किया था.

उत्तराखंड वन्य विभाग के अधिकारी ने बीबीसी के राजू गुसाईं को बताया कि आदमखोर बाघिन को पहले कई बार दवा देकर काबू में करने की कोशिश की गई,

लेकिन उसके ख़तरनाक होने पर मारने का फ़ैसला किया गया.

दरअसल यह बाघिन उस इलाके में लोगों पर हमले कर रही थी, जहां पर स्थानीय लोगों की खेती की ज़मीन थी. ऐसे में किसानों में डर लगातार बढ़ रहा था.

इस बाघिन का पता लगाने के लिए हेलिकॉप्टर और ड्रोन की मदद ली गई. इसके बाद बाघों का शिकार करने के लिए अत्याधुनिक तकनीक थर्मल इमेजनरी का इस्तेमाल किया गया.

इस बाघिन का पता लगाने के लिए 50 ख़ुफ़िया कैमरों का इस्तेमाल भी किया गया. इसके बाद गुरुवार की सुबह बाघिन को गोली मारी गई.

आदमखोर बाघिन के मारे जाने पर स्थानीय लोगों ने जश्न मनाया. माना जाता है कि दुनिया भर में बाघों की सबसे ज़्यादा संख्या भारत में है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार