नाबालिग़ों की हत्या पर पलटी छत्तीसगढ़ सरकार

इमेज कॉपीरइट Tameshwar Sinha

माओवाद प्रभावित छत्तीसगढ़ के बस्तर में 24 सितंबर को दो नाबालिग़ों सोनकू राम और सोमड़ू को पुलिस मुठभेड़ में मारने का दावा करने वाली छत्तीसगढ़ सरकार ने अब कहा है कि दोनों की हत्या अज्ञात लोगों ने की थी.

मारे गये नाबालिग़ों के परिजनों की याचिका पर छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में गुरुवार को सुनवाई के दौरान सरकार ने कहा कि इस मामले में प्राथमिक रिपोर्ट दर्ज की गई है और पुलिस मामले की जांच कर रही है.

याचिकाकर्ता के वकील सतीशचंद्र वर्मा ने कहा, "अदालत में हमने इस बारे में कड़ी आपत्ति दर्ज कराई है कि पुलिस लगातार दावा करती रही है कि पुलिस के साथ मुठभेड़ में दोनों मारे गए हैं. पिछले एक महीने में पहली बार अदालत में सरकार यह सूचित कर रही है कि दोनों की हत्या अज्ञात लोगों ने की है और उनके ख़िलाफ़ भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत मामला दर्ज किया गया है."

इससे पहले पुलिस ने दोनों को माओवादी बताते हुए मुठभेड़ में मारने का दावा किया था.

इमेज कॉपीरइट Tameshwar Sinha

इसके अलावा मुठभेड़ के अगले ही दिन बस्तर के आईजी पुलिस शिवराम प्रसाद कल्लुरी और पुलिस अधीक्षक आरएन दाश ने इस कथित मुठभेड़ में शामिल पुलिसकर्मियों को एक लाख रुपये का नक़द इनाम भी दिया था.

हालांकि मुठभेड़ के बाद गांव के लोगों और दूसरे राजनीतिक दलों ने आरोप लगाया था कि पुलिस ने घर से ले जा कर दोनों नाबालिग़ों की हत्या की है.

आम आदमी पार्टी की नेता सोनी सोरी ने कहा था, "गड़दा गांव का रहने वाला मुरिया आदिवासी सोनकू राम अपने एक दोस्त सोमड़ू के साथ 23 सितंबर को अपनी बुआ के घर पहुंचा था. रात होने के कारण दोनों वहां रुक गये. सुबह चार बजे के आसपास सुरक्षाबलों की एक टीम पहुंची और दोनों किशोरों को अपने साथ लेकर चली गई."

इमेज कॉपीरइट Tameshwar Sinha

कांग्रेस पार्टी ने इस मामले में विधायकों की एक जांच कमेटी बनाई, जिसने इस मुठभेड़ को फ़र्ज़ी बताया. भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के संभागीय जांच समिति दल ने भी इसे फ़र्ज़ी मुठभेड़ बताया था.

माओवादियों के ख़िलाफ़ सलवा जुड़ूम अभियान चलाने वाले महेंद्र कर्मा की पत्नी और दंतेवाड़ा की विधायक देवती कर्मा ने इस मामले में पुलिस के ख़िलाफ़ मोर्चा खोल दिया था.

मारे गये दोनों नाबालिगों के परिजनों और विधायक देवती कर्मा ने इस मामले में छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में याचिका दायर की और आरोप लगाया कि पुलिस अधिकारी उन्हें फंसाने की धमकी दे रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Tameshwar Sinha
Image caption छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट

इसके बाद पुलिस ने आरोप लगाया कि देवती कर्मा ने पीड़ित परिवार के लोगों को बंधक बना कर अपने घर में रखा है. साथ ही दूसरे परिजनों की शिकायत पर विधायक देवती कर्मा के ख़िलाफ़ पुलिस ने अपहरण का मामला भी दर्ज किया था.

गुरुवार को कांग्रेस पार्टी ने एक बयान में कहा है कि आज छत्तीसगढ़ पुलिस ने स्वीकार कर लिया है कि बस्तर के बारसूर के हितामेटा पोटाकेबिन में दो बच्चों की हत्या की गई थी, इनमें से एक स्कूल में पढ़ता था. ऐसे में इस मामले में दोषी पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ़ तत्काल कार्रवाई की जानी चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)