भोपाल मुठभेड़ की जांच से सरकार का इनकार

इमेज कॉपीरइट MP Police

भोपाल में आठ सिमी कार्यकर्ताओं से कथित मुठभेड़ मामले में सवालों का सामना कर रही मध्यप्रदेश सरकार अब इस मुठभेड़ की जांच नेशनल इंवेस्टीगेशन एजेंसी (एनआईए) से नहीं कराएगी.

राज्य के गृहमंत्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा है कि एनआईए केवल सिमी सदस्यों के जेल से फ़रार होने की जांच करेगी.

राज्य सरकार भले ही मुठभेड़ की जांच से इनकार कर रही है लेकिन राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने आठ विचाराधीन क़ैदी की कथित पुलिस मुठभेड़ में हुई मौत पर स्वंय संज्ञान लेते हुए इस मामल में मध्यप्रदेश के मुख्य सचिव, डीजीपी, जेल के डीजी और आईजी को नोटिस जारी कर उनसे छह हफ़्ते में जवाब मांगा है.

इमेज कॉपीरइट Shuhre Niyazi

एमपी के गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि जिन परिस्थियों में एनकाउंटर किया गया उसकी पूरी जानकारी पुलिस दे चुकी है इसलिये इसमें ज़्यादा बोला जाना ठीक नही है.

सोमवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक प्रेस कांफ्रेंस में घोषणा की थी कि सिमी सदस्यों के जेल से भागने और उनके एनकाउंटर की जांच एनआईए करेगी.

माना जा रहा है कि सिमी कार्यक्रताओं के साथ मुठभेड़ को लेकर सोशल मीडिया पर वायरल हुए आधा दर्जन वीडियो आने के बाद पुलिस के एनकाउंटर के दावे शक के घेरे में आ गए हैं इसी वजह से सरकार मुठभेड़ की जांच एनआईए से कराने से पीछे हट रही है.

इमेज कॉपीरइट Fatima Farheen

इधर राजधानी दिल्ली के जंतर मंतर पर कई संगठनों ने भोपाल में कथित मुठभेड़ के विरोध में प्रदर्शन किया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)