एक दिन का बैन तो बस प्रतीकात्मक है: बीजेपी

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

भारतीय जनता पाटी के प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी का कहना है कि एनडीटीवी इंडिया पर लगाया गया प्रतिबंध प्रतीकात्मक है ताकि एक संदेश जाए.

बीबीसी हिंदी के साप्ताहिक रेडियो कार्यक्रम इंडिया बोल में सुधांशु त्रिवेदी ने कहा, ''अभिव्यक्ति की संविधान प्रदत्त स्वतंत्रता और स्वेच्छाचारी स्वच्छंदता दोनों में अंतर समझना होगा.''

सुधांशु त्रिवेदी का ये भी कहना है कि एनडीटीवी को पहली बार नोटिस नहीं मिला है.

ये भी पढ़ें: 'कोर्ट जाने पर बेनकाब हो जाएगा एनडीटीवी'

इमेज कॉपीरइट NDTV TWITTER

उन्होंने कहा, ''एनडीटीवी को हमारे कार्यकाल में नहीं यूपीए के कार्यकाल में 16 नवंबर 2010 को सेरेना विलियम्स की अश्लील फोटो दिखाने के मामले में नोटिस गया. जनवरी 2006 में एक विज्ञापन को आपत्तिजनक ढंग से दिखाने के सिलसिले में भी उसे नोटिस दिया गया.''

उन्होंने कहा, ''ये पक्षपात या राग-द्वेष का विषय नहीं है. सरकार के ऑफिशियल रिकॉर्ड के हिसाब से एनडीटीवी बार-बार ग़लतियां करता आया है. वो वर्षों से चेतावनियों को नज़रअंदाज़ करते चले जा रहे हैं.''

इमेज कॉपीरइट EPA

एनडीटीवी को एक दिन के लिए ऑफ एयर करने के फैसले पर सुधांशु त्रिवेदी ने कहा, ''संबंधित एक्ट की एक धारा के तहत किसी चैनल को एक महीने तक ऑफ एयर करने का प्रावधान है. 24 घंटे तो एक तरह का प्रतीकात्मक है ताकि एक संदेश जाए. लोकतंत्र में सबको अधिकार है तो उसके साथ-साथ दायित्व भी हैं, चैनल को एक मर्यादा की सीमा में रहना चाहिए.''