इन मुद्दों पर नज़र होगी टेरीज़ा मे और मोदी की

इमेज कॉपीरइट Reuters

ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरीज़ा मे भारत के दौरे पर आई हुई हैं. इस दौर पर उनकी मुलाक़ात भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से होने वाली है.

यह पहली बार है जब ब्रिटेन की नई प्रधानमंत्री की यूरोप के बाहर कोई द्विपक्षीय बैठक हो रही है.

इस द्विपक्षीय बातचीत में कई अहम मुद्दों पर बात होने की संभावना है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

यहां हम उन सात मुद्दों के बारे में आपको बताने जा रहे हैं जो ब्रिटेन और भारत के लिहाज से काफी अहम माने जा रहे हैं.

  • सबसे अहम मुद्दा तो यह है कि ब्रेक्सिट के बाद ब्रिटेन का क्या रुख होने वाला है. पहले भारत का ब्रिटेन के साथ व्यापार यूरोपीय संघ के साथ तय होता था. अब ब्रेक्सिट के बाद टेरीज़ा मे बताएंगी कि ब्रिटेन का भारत के साथ सीधे व्यापार को लेकर क्या रुख होगा.
  • दूसरा मुद्दा होगा, ब्रिटेन का प्रवासी भारतीयों के वीजा को लेकर कठोर रुख. ब्रिटेन ने ब्रेक्सिट के तुरंत बाद प्रवासी वीजा को लेकर कठोर रुख अपनाया है. जबकि उम्मीद यह की जा रही थी कि कॉमनवेल्थ देश होने के नाते भारत को रियायत मिलेगी.
  • मुक्त व्यापार समझौता यानी फ्री ट्रेड एग्रीमेंट को लेकर भारत और ब्रिटेन के बीच जो रियायत को लेकर मसले हैं, उसे तो ख़ुद ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरीज़ा मे उठाना चाहेंगी.
  • भारत की जो कंपनियां ब्रिटेन में व्यापार कर रही हैं, उनकी आय पर पाउंड की क़ीमत कम होने से असर पड़ा है. इस मसले पर भी चर्चा होने की उम्मीद है.
  • एक मुद्दा चरमपंथ को लेकर भी उठेगा. पिछले कुछ दिनों में दोनों देशों के बीच चरमपंथ से मुकाबले को लेकर संबंध काफी मजबूत हुए है. इस संबंध में साइबर सुरक्षा और इंटेलिजेंस सर्विस को लेकर बात होगी. उड़ी हमले के बाद ब्रिटेन सरकार का जो रुख था वो काफी सकारात्मक था. चरमपंथी संगठन जैश ए मोहम्मद के प्रमुख मौलाना अज़हर को लेकर भी ब्रिटेन ने संयुक्त राष्ट्र में भारत का साथ दिया है.
  • जो एक और अहम मुद्दे पर बात होगी, वो डिफेंस टेक्नॉलॉजी को लेकर होगी. हॉक विमानों को लेकर हमारी सरकार पूछ सकती है कि कहीं कोई गड़बड़ तो रोल्स रॉयस की तरफ से नहीं हुई है, लेकिन इसे ज्यादा तवज्जो इस वक़्त नहीं दी जाएगी.
  • इन सब के अलावा पढ़ाई के लिए ब्रिटेन जाने वाले भारतीय छात्रों की फ़ीस के मसले पर भी कुछ बातचीत हो सकती है.

(पूर्व राजनयिक नरेश चंद्रा से बीबीसी संवाददाता प्रदीप कुमार की बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)