गांधी की लाठी थामने वाला चला गया...

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption मई में नरेंद्र मोदी की कनु गांधी से फ़ोन पर बात कराते संस्कृति मंत्री महेश शर्मा

महात्मा गांधी की जितनी बेहतरीन तस्वीरें आपनी देखी होंगी, उनके पीछे जो शख़्स थे, वो अब इस दुनिया में नहीं रहे.

गांधी के पौत्र, बेहतरीन फ़ोटोग्राफ़र और नासा के पूर्व वैज्ञानिक कनु रामदास गांधी का सोमवार शाम निधन हो गया.

लंबे वक़्त से बीमार चल रहे कनु 87 बरस के थे. कनु का जन्म साल 1917 में महात्मा गांधी के भतीजे नारायण गांधी और जमुना गांधी के यहां हुआ था.

कनु जब छोटे थे, तो उनकी वो तस्वीर बेहद मशहूर हुई, जिसमें वो दांडी मार्च के दौरान महात्मा गांधी की लाठी पकड़े हुए आगे-आगे चल रहे हैं.

अक्टूबर में उन्हें दिल का दौरा पड़ा और ब्रेन हैमरेज भी हुआ, जिसकी वजह से वो कोमा में चले गए थे.

महात्मा गांधी के सेक्रेटरी के तौर पर काफ़ी साल काम करने वाले कनु ने उनकी 2,000 से ज़्यादा तस्वीरें ली थीं. हालांकि, इनमें से कई तस्वीरें सालों तक गुमनाम रहीं.

कई दशक पहले भारत में अमरीका के तत्कालीन राजदूत जॉन केनेथ गलब्रेथ, कनु को पढ़ाई के लिए अमरीका के एमआईटी ले गए.

बाद में उन्होंने नासा के लिए भी काम किया.

महात्मा गांधी की वो बेहद ख़ास तस्वीरें, जो कनु ने खींची:

इमेज कॉपीरइट कनु गांधी
Image caption ये तस्वीर 1938 की है. महात्मा गांधी महाराष्ट्र में सेवाग्राम आश्रम में. (फोटोः कनु गांधी)

कनु गांधी को उनके माता-पिता ने 20 साल की उम्र में गांधी की मदद करने को सेवाग्राम भेज दिया था. वो मेडिकल की पढ़ाई करना चाहते थे लेकिन फिर उन्हें फ़ोटोग्राफ़ी में दिलचस्पी पैदा हो गई.

इमेज कॉपीरइट कनु गांधी
Image caption साल 1945 में मुंबई का बिरला हाउस. गांधी अपना वज़न जांचते हुए. (फोटोः कनु गांधी)

कनु, मेडिकल की पढ़ाई करना चाहते थे लेकिन फिर उन्हें फ़ोटोग्राफ़ी में दिलचस्पी पैदा हो गई.

इमेज कॉपीरइट कनु गांधी
Image caption साल 1940, सेवाग्राम में कड़ी धूप से बचने के लिए सिर पर तकिया रखे गांधी. (फोटोः कनु गांधी)

कनु गांधी आमतौर पर महात्मा गांधी के आस पास ही रहते थे. ऐसे में कई ऐसे अंतरंग और एकांत के पल उनके कैमरे में क़ैद हो गए.

इमेज कॉपीरइट कनु गांधी
Image caption अक्टूबर 1938 में सड़क पर फंसी गांधी की गाड़ी को धक्का देते पठान और कांग्रेस कार्यकर्ता. (फोटोः कनु गांधी)

उत्तर-पश्चिम सीमा प्रांत में एक बार गांधी की गाड़ी कुछ ऐसे ही फंस गई थी. कनु गांधी ने महात्मा गांधी के साथ देश-दुनिया जगह जगह यात्राएं की.

इमेज कॉपीरइट कनु गांधी
Image caption नवंबर 1938 में अबोटाबाद में महात्मा गांधी और कस्तूरबा. (फोटोः कनु गांधी)

गांधी के जीवन के अंतिम दशक में कई अहम घटनाएं और क्षण गुज़रे. कनु की तस्वीरों में उन सबकी कहानी क़ैद है.

इमेज कॉपीरइट कनु गांधी
Image caption मार्च 1939 में तीन दिनों के उपवास के दौरान गुजरात के राजकोट में गांधी. (फोटोः कनु गांधी)

तीन दिनों के उपवास के दौरान गांधी की मालिश करती हुई उनकी बड़ी बहन रालियातबेन और एक रिश्तेदार.

इमेज कॉपीरइट कनु गांधी
Image caption सेवाग्राम में एक ईसाई और दलित लड़की के विवाह के दौरान गांधी और कस्तूरबा (फोटोः कनु गांधी)

ये तस्वीर साल 1940 की है.

इमेज कॉपीरइट कनु गांधी
Image caption संजीव सेठ के अनुसार कस्तूरबा गांधी के जीवन के अंतिम महीनों की तस्वीर. (फोटोः कनु गांधी)

साल 1944 में पुणे के आगा़ ख़ा पैलेस के एक बिस्तर पर कस्तूरबा गांधी अचेत अवस्था में लेटी हुई हैं.

इमेज कॉपीरइट कनु गांधी
Image caption गांधी आजादी के एक अहम नायक सुभाष चंद्र बोस के साथ. (फोटोः कनु गांधी)

1938 की एक ऐतिहासिक तस्वीर जिसमें महात्मा गांधी और सुभाष चंद्र बोस हल्के-फुल्के अंदाज़ में बातचीत करते हुए. पीछे कस्तूरबा दिखाई दे रही हैं.

इमेज कॉपीरइट कनु गांधी
Image caption नोबेल पुरस्कार विजेता रविंद्रनाथ टैगार के साथ गांधी पश्चिम बंगाल के शांति निकेतन में. (फोटोः कनु गांधी)

1940 में खिंची गई इस तस्वीर में गांधी और टैगोर चिंतन-मनन करते दिखाई दे रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट कनु गांधी
Image caption बंगाल, असम और दक्षिणी भारत की रेल यात्रा के दौरान हाथ फैलाकर दान जुटाते गांधी. (फोटोः कनु गांधी)

महात्मा गांधी भारत में दलितों की मौजूदा दशा के प्रति ख़ासे चिंतित रहा करते थे. उन्होंने 1945-46 के दौरान तीन महीने लंबी रेल यात्रा की और जगह-जगह जाकर धन जुटाया था.

इसी संदर्भ में उन्होंने एक बार कहा था, "मैं बनिया हूं. मेरे लोभ का कोई अंत नहीं है."

(सारी तस्वीरेंः कनु गांधी, ©गीता मेहता, आभा और कनु गांधी की वारिस)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)