'उनका दम घुट गया, दीवार तोड़ लाशें निकालीं'

Image caption चश्मदीद चौधरी नौशाद

उत्तर प्रदेश की गाज़ियाबाद जैकेट फैक्ट्री में आग लगने से 13 लोगों की मौत हो गई है.

चश्मदीद चौधरी नौशाद ने बताया, "मज़दूरों के चेहरे बुरी तरह झुलस गए थे. यदि पुलिस समय पर नहीं आती तो उनके शव कोयला हो जाते."

नौशाद बताते हैं कि घायल मजदूरों को पुलिस की गाड़ियों से अस्पताल ले जाया गया.

कांग्रेस पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष अकरम अंसारी साहिबाबाद के इसी इलाक़े में रहते हैं. उनका घर यहां से बमुश्किल 100 क़दम की दूरी पर है.

अकरम बताते हैं, "तक़रीबन पांच-साढ़े पांच बजे की घटना है. इस इमारत में ऊपर एक कारख़ाना चलता था. इसमें जैकेट बनाने का काम होता था. लोगों ने नालियों से पानी भर भर कर आग बुझाने की कोशिश की."

Image caption गाज़ियाबाद की जैकेट फैक्ट्री जिसमें आग लगी.

वे बताते हैं, "प्रशासन की बड़ी ख़ामी रही. हमने फायर ब्रिगेड को फोन किया. लेकिन वे वक्त पर नहीं आए. हमें उन्हें बाइक पर लेकर आना पड़ा."

मौक़े पर मौजूद एक व्यक्ति ने बताया, "अगर फायर ब्रिगेड वाले समय पर आ जाते तो ऊपर के मंजिल में फंसे 10 लोगों को बचाया जा सकता था."

स्थानीय लोगों ने बताया कि उन्होंने पाइप से दीवार तोड़ कर 13 लाशें निकालीं.

घटना में मृत एक मज़दूर के रिश्तेदार ने बताया, "मेरा भतीजा यहां जैकेट की सिलाई का काम करता था."

आग लगने के बाद प्रशासन के देर से पहुंचने से लोगों में काफी नाराजगी है.

इसके अलावा लोग ये भी बताते हैं कि इतने भीड़ भाड़ वाले इलाके में कई कारखाने चल रहे हैं. ये गैरकानूनी है और सब पुलिस की मिलीभगत से हो रहा है.

बताया जा रहा है कि आग में मरने वाले 13 मजदूरों में से कोई यहां का रहने वाला नहीं था. वे सभी बरेली, बुलंदशहर और गुलावटी से यहां काम करने आए थे.

Image caption स्थानीय नागरिक और कांग्रेस पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष अकरम अंसारी

चौधरी नौशाद बताते हैं, "वे लोग यहां तीन-चार सौ रुपए के लिए काम कर रहे थे. उनके परिवार सड़क पर आ गए हैं. एक परिवार के तीन लोगों की मौत हो गई."

नागरिकों ने स्थानीय प्रशासन से मांग की है कि वह हर मृतक के परिवार को 50-50 लाख रुपए मुआवजा दे.

प्रशासन की ओर से इस बारे में अभी कोई आश्वासन नहीं मिला है. हालांकि सांसद जनरल वीके सिंह ने उच्च स्तरीय जांच का आश्वासन दिया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)