किसानों के लिए मुसीबत बनते पुराने नोट

इमेज कॉपीरइट CG Khabar
Image caption आत्महत्या करने वाले 46 साल के रवि प्रधान

छत्तीसगढ़ के रायगढ़ में अपने पुराने नोट नहीं बदले जाने से परेशान एक किसान ने कथित रूप से फांसी लगा कर जान दे दी.

हालांकि पुलिस 46 साल के रवि प्रधान की आत्महत्या के मामले की जांच की बात कह रही है.

महाराजपुर गांव में रहने वाले रवि प्रधान की पत्नी पुष्पलता ने बताया, "वे पिछले तीन दिनों से पांच-पांच सौ के छह नोट लेकर बैंक जा रहे थे. लेकिन उनका नोट बदला नहीं जा रहा था. इससे वे परेशान थे. बाद में उन्होंने फांसी लगा ली."

परिजनों के अनुसार रवि प्रधान के दो बेटे अनिल और सुनील तमिलनाडु के एक सूत कारखाने में काम करते थे. वहां से वे किसी तरह लौटना चाह रहे थे. लेकिन उनका ठेकेदार पैसे लेकर भाग गया.

इसके बाद दोनों लड़कों ने अपने पिता से पैसों का इंतजाम करने के लिए कहा था.

गांव के सरपंच गोवर्धन सिदार का कहना है कि पुराने नोटों के कारण गांव के लोग परेशान हैं. बैंकों में अधिक भीड़ के कारण नोट बदलने का काम भी बहुत मुश्किल है.

इमेज कॉपीरइट CG Khabar
Image caption रवि प्रधान की पत्नी पुष्पलता

इधर पुलिस का कहना है कि मृतक के पास से कोई सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ है.

रायगढ़ के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक यूबीएस चौहान ने कहा है कि किसान ने किन परिस्थितियों में आत्महत्या की है, इस बारे में जांच के बाद ही ठीक-ठीक पता चल पायेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)