नोटबंदी पर विपक्ष ने अवसर गंवाया

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption प्रधानमंत्री सोमवार को उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में आयोजित एक जनसभा को संबोधित करते हुए

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पांच सौ और एक हजार रुपए के पुराने नोट को बदल कर नए नोटों के लाने के फैसले से आम लोगों को कष्ट हो रहा है इससे किसी को इनकार नहीं, प्रधानमंत्री खुद स्वीकार कर रहे हैं कि 50 दिनों के बाद लोगों की तकलीफें दूर हो जाएंगी.

इस पर विपक्ष की अब तक की भूमिका से जनता और उनके समर्थकों में मायूसी नज़र आती है. देश की सियासत पर नज़र रखने वालों में से कई ये कह रहे हैं कि ये विपक्ष के लिए सरकार को पछाड़ने का एक अच्छा मौक़ा था जिसे उसने गँवा दिया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

ऐसा लगता है कि प्रधानमंत्री के अचानक एलान से विपक्ष बौखला गया है. प्रधानमंत्री और भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह मज़े लेकर विपक्ष की खिल्ली उड़ा रहे हैं, जैसा कि शाह का बयान कि मायावती और मुलायम के चेहरे से चमक ग़ायब हो गई है, लेकिन इसके बावजूद विपक्ष चारों खाने चित नज़र आता है.

इमेज कॉपीरइट AFP

बेशक विपक्ष के अहम नेताओं के बयान ज़रूर आ रहे हैं. लेकिन एक्शन ग़ायब है. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से लेकर मुलायम सिंह यादव और मायावती इसका विरोध ज़रूर कर रहे हैं लेकिन इसके आगे कुछ नहीं.

कम से कम राहुल गाँधी दिल्ली के एक बैंक के सामने आम लोगों के साथ क़तार में खड़े नज़र तो आए. ये बात और है कि कांग्रेस पार्टी भी इसको भुनाने का अवसर गंवाती जा रही है. अरविंद केजरीवाल का विरोध सोशल मीडिया से आगे कभी नहीं बढ़ पाया है.

अगर विपक्ष को ऐसा लगता है कि प्रधानमंत्री ने ये क़दम उत्तर प्रदेश और पंजाब के विधानसभा चुनाव को नज़र में रखकर उठाया है तो विपक्ष को इसे मुद्दा बनाने से किस ने रोका है? सच तो ये है कि विपक्ष, खासतौर से कांग्रेस पार्टी, 2014 के चुनाव में करारी हार से अब तक उबर नहीं पाई है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

एक्शन के थोड़े बहुत आसार पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की कोशिशों में ज़रूर नज़र आ रहे हैं. वो मंगलवार को दिल्ली आ रही हैं. उनकी कोशिश है कि अधिक से अधिक सांसदों के साथ एक मोर्चा बनाकर राष्ट्रपति भवन जाएँ और राष्ट्रपति से कहें कि सरकार की नोटबंदी से जनता कितनी परेशान है.

इस मुद्दे पर विपक्ष सरकार को राज्य सभा में घेरने की तैयारी कर रहा है. राज्य सभा में भाजपा को बहुमत प्राप्त नहीं है. बुधवार से संसद का नया सत्र शुरू हो रहा है. सरकार को कई अहम बिल पारित कराने हैं जिसके लिए मोदी सरकार को विपक्ष की ज़रुरत पड़ेगी.

अब देखना ये है कि इस सत्र में विपक्ष नोटों की वापसी के मुद्दे पर सरकार को कितना झुका सकती है.

लेकिन प्रधानमंत्री के अब तक के सार्वजनिक भाषणों से ऐसा लगता है कि सरकार झुकने वाली नहीं. सोमवार को ग़ाज़ीपुर में अपने एक भाषण में उन्होंने कहा, "केवल वो लोग परेशान हैं, जो बेईमान हैं. लेकिन उनके लिए कोई और चारा भी नहीं है".

इमेज कॉपीरइट Reuters

प्रधानमंत्री ने इस क़दम को भ्रष्टाचार और काले धन के खिलाफ एक 'जिहाद' की तरह से जनता के सामने पेश किया है. जनता परेशान ज़रूर है लेकिन इस एक्शन के खिलाफ नज़र नहीं आती.

उनकी ये बात कि भ्रष्टाचार ख़त्म करने के इस काम में लोगों को थोड़ी तकलीफ का सामना करना पड़ रहा है, जनता के दिलों पर असर कर सकती है.

काला धन और भ्रष्टाचार एक ऐसा मुद्दा है जिसके खिलाफ क़दम को लोगों का हमेशा समर्थन हासिल रहेगा. विपक्ष ये जानता है.

यही वजह है कि सभी विपक्षी नेताओं ने कहा है कि वो भी भ्रष्टाचार के खिलाफ हैं लेकिन सरकार ने जिस तरह से ये क़दम उठाया वो उसका विरोध कर रहे हैं. लेकिन ऐसा लगता है कि विपक्ष का ये विरोध अब तक बेअसर रहा है.