स्कूल बंद थे पर परीक्षा शुरू हो गई

इमेज कॉपीरइट AFP

भारत प्रशासित कश्मीर में जो 1 लाख से ज़्यादा बच्चे पिछले चार महीने से स्कूल नहीं जा रहे थे, सोमवार से उनके इम्तेहान शुरू हो गए.

लेकिन सरकार का कहना है कि इससे बच्चों का नुकसान नहीं होगा, क्योंकि इम्तहाने में सिर्फ़ आधा पाठ्यक्रम कवर किया जाएगा.

चरमपंथियों ने हालिया हफ़्तों में कई स्कूलों को आग के हवाले कर दिया था, जिसके बाद इम्तेहान को टालने की मांग भी उठी.

श्रीनगर में बीबीसी उर्दू के संवाददाता रियाज़ मसरूर के मुताबिक कड़ी सुरक्षा के बीच 98 फ़ीसद बच्चे परीक्षा हिस्सा ले रहे हैं.

रियाज़ मसरूर के मुताबिक, "सोमवार सवेरे से प्रक्रिया बढ़िया चल रही है. ज़्यादातर बच्चे इम्तेहान दे रहे हैं, ताकि साल ज़ाया ना जाए."

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

सरकार ने अगले साल मार्च में एक बार फिर इम्तेहान कराने का वादा किया है, ताकि बाक़ी बच्चे भी इनमें बैठ सकें.

इस साल जुलाई में हिज्बुल कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने के बाद सैनिकों और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़पों की वजह से कश्मीर में स्कूलों को बंद करना पड़ा था.

घाटी में हुई हिंसा में अब तक 89 लोग मारे जा चुके हैं, जबकि हज़ारों अन्य ज़ख़्मी हुए हैं.

भारत हिंसा भड़काने के लिए पाकिस्तान को ज़िम्मेदार ठहराता है, जबकि वो इस आरोप से इनकार करता आया है.

दोनों मुल्क़ कश्मीर पर अपना हक़ जताते हैं. 60 बरस से ये इलाक़ा भारत-पाकिस्तान के बीच टकराव की सबसे बड़ी वजह बना हुआ है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)